BokaroJharkhand

इलाज के दौरान तेनुघाट में बंद नक्सली तालो मांझी की मौत

Gomia: पिछले 11 वर्षों से विभिन्न जेलों में बंद रहे नक्सली बंदी तालो मांझी की मौत सोमवार को इलाज के दौरान रिम्स रांची में हो गयी. इस संबंध में बताया गया कि वह कई नक्सली कांडों में आरोपी था और पिछले 11 साल से विभिन्न जेलों में बंद था. इस संबंध में तेनुघाट उपकारा के जेलर डीएन राम ने बताया कि वह 2016  से तेनुघाट कारा में बंदी बन के आया था.

खनन प्रभावित 23 गांवों को मिलेगा सोलर युक्त जलापूर्ति योजना से पानी

2007 में हुई थी गिरफ्तारी

रविवार को अचानक उसकी तबीयत खराब हो गयी और आनन-फानन में उसे तेनुघाट अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती कर इलाज कराया गया, लेकिन चिकित्सकों ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए बेहतर इलाज के लिए उसे रांची रिम्स रेफर कर दिया गया. रिम्स में इलाज के दौरान सोमवार को उसकी मौत हो गयी. मृतक तालो मांझी का पोस्टमार्टम के बाद शव उनके परिजनों को सौंप दिया गया है. मालूम हो कि तालो मांझी को साल 2007 में बोकारो के तत्कालीन एसपी एमएस भाटिया के नेतृत्व में गिरफ्तार किया गया था. तब से वह विभिन्न जेलों में बंद रहा था. वह गोमिया प्रखंड के बड़की चिदरी पंचायत अंतर्गत डंडरा ग्राम के ढोरी गांव का निवासी था. वह इस इलाके के एरिया कमांडर संतोष महतो का सबसे निकटतम सहयोगी था. मंगलवार को उसका अंतिम संस्कार पैतृक गांव में किया गया.

advt

इसे भी पढ़ें : बेटियों को बचपन से ही बनायें सशक्त, विषम परिस्थितियों में दृढ़ता कम न होने दें : रेखा शर्मा

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button