Crime NewsKhas-KhabarRanchi

जेल में बंद रहकर भी कई कुख्यात अपराधी सक्रिय, आपराधिक घटनाओं को दे रहे अंजाम

विज्ञापन

Ranchi: झारखंड के बड़े और कुख्यात अपराधी जेल के अंदर रहते हुए भी सक्रिय हैं. जेल में बंद रहते हुए भी ये अपराधी रंगदारी वसूलने का काम कर रहे हैं. इतना ही नहीं वो हत्या की साजिश भी रच रहे हैं. राज्य के कई ऐसे बड़े अपराधी हैं, जो जेल के अंदर से ही मोबाइल फोन के सहारे अपना गिरोह चलाते हैं. साथ ही बाहर रह रहे अपने गुर्गों के सहयोग से आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिलवाते हैं. हाल के महीने के कई ऐसी घटनाएं सामने आया हैं जिसके तार जेल के अंदर बंद अपराधियों से जुड़े हुए थे.

आज भी पूरी तरह से आधुनिक नहीं हो पायी है जेल 

राज्य की जेलें आज भी पूरी तरह से आधुनिक नहीं हो पायी हैं. यहां कई जेलों में आज भी 2जी जैमर लगे हुए है. ऐसे में 4 जी नेटवर्क के आगे पुराने हो चुके 2जी जैमर पूरी तरह से फेल हो चुके हैं. इसके कारण राज्य की जेल में बंद गैंगस्टर व बड़े अपराधी बिना किसी रोक-टोक के मोबाइल फोन के जरिए अपना नेटवर्क चला रहे हैं.

ये अपराधी जेल से फिरौती मांगने, सुपारी देने, डराने-धमकाने जैसी बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. हर बार पुलिस का एक ही जबाव होता है कि वह मामले की पड़ताल कर रही है. कैदी या हवालाती का अदालत से पुलिस प्रोडेक्शन वारंट हासिल कर पूछताछ की जाएगी. कुल मिलाकर जेलों में चल रहे मोबाइल फोन के इस खेल में पुलिस से लेकर जेल प्रशासन व सुरक्षा कर्मियों की स्पष्ट रूप से मिलीभगत होने का संदेह होता है.

advt

इसे भी पढ़ें- CoronaUpdate: देश में 32 लाख से ज्यादा केस, 24 घंटे में 67 हजार से अधिक नये मामले आये सामने

गैंगस्टर सुजीत सिन्हा के इशारे पर बिल्डर से मांगी गयी थी रंगदारी 

जमशेदपुर के घाघीडीह जेल में बंद कोयलांचल के डॉन सुजीत सिन्हा के इशारे पर बिल्डर अभय सिंह से 2 करोड़ रुपए की रंगदारी मांगी गयी थी. इस बात का खुलासा बीते 17 अगस्त को गिरफ्तार चार शूटरों ने पुलिस की पूछताछ में किया था. गिरफ्तार शूटरों में न्यू एरिया मोरहाबादी निवासी रवि रंजन पांडे, बोड़ेया अरसंडे निवासी फिरोज अंसारी, सरईटांड़ मोरहाबादी निवासी अमित उरांव और गुमला निवासी कुलदीप गोप शामिल हैं.

इन अपराधियों से पूछताछ के बाद रांची पुलिस ने पीएलएफआइ उग्रवादी परमेश्वर गोप को गिरफ्तार किया था. परमेश्वर गोप ने बताया की वह जेल में बंद सुजीत सिन्हा और उसके गिरोह के हरि तिवारी जो कि पलामू जेल में बंद है के संपर्क में रहता था.

जेल से रची गयी थी हत्या की साजिश

जमशेदपुर के टेल्को थाना क्षेत्र के महानंद बस्ती में बीते 30 जुलाई को मोनी दास की हत्या कर दी गयी थी. मोनी दास की हत्या की साजिश घाघीडीह जेल से रची गयी थी. मोनी दास की हत्या उसके पुराने दोस्त भीम कामत ने सुपारी देकर कृष्णा गोप की मदद से करायी थी. वर्तमान में भीम कामत घाघीडीह जेल में बंद है. इस मामले का पुलिस ने खुलासा करते हुए हत्या की घटना में शामिल छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था.

adv

इसे भी पढ़ें- अर्थव्यवस्था को लेकर राहुल ने मोदी सरकार को घेराः कहा- जो महीनों से बोल रहा था,अब RBI ने भी माना

जेल के अंदर से रची गयी थी कक्षपाल की हत्या की साजिश

राजमहल उपकारा के कक्षपाल रजनीश चौबे पर हुए जानलेवा हमले की साजिश जेल में बंद कुख्यात अपराधी कृष्णा मंडल ने रची थी. कृष्णा मंडल राजमहल उपकारा में बंद है. कक्षपाल रजनीश चौबे की सख्ती से परेशान होकर कृष्णा ने अपने भाई विष्णु मंडल की मदद से हमला करवाया था. गौरतलब है कि बीते 30 अप्रैल की रात राजमहल मंडल कारा के कक्षपाल रजनीश चौबे को आजाद नगर क्षेत्र में तीन नकाबपोश अपराधियों गोली मार दी थी. इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए घटना में शामिल अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया था.

अनिल शर्मा के कहने पर ठेकेदारों से मांगी गयी थी रंगदारी

दुमका जेल में बंद होने के बाद भी अनिल शर्मा अपना साम्राज्य चला रहा है. जेल की सुरक्षा व्यवस्था को चुनौती देते हुए वह फोन से ही रंगदारी वसूल रहा है. अनिल शर्मा ने फोन से रांची के एक व्यवसायी से रंगदारी मांगी थी. 13 जुलाई 2019 जेल में बंद अपराधी अनिल शर्मा के राइट हैंड डब्ल्यू सिंह उर्फ डब्ल्यू शर्मा को पुलिस ने रेलवे ठेकेदार की हत्या की योजना बनाने के मामले में गिरफ्तार किया था. डब्ल्यू ने बताया कि अनिल शर्मा के कहने पर उसने तीन ठेकेदारों से 20-20 लाख की रंगदारी मांगी थी.

इसे भी पढ़ें- मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से समय रहते परमिशन नहीं ले पाने की वजह से PMCH में नहीं हो पायेगी पीजी की पढ़ाई

अपराधी लवकुश शर्मा ने जेल से की थी रंगदारी की मांग

वर्ष 2018 में अपराधी लवकुश शर्मा ने जेल से ही रंगदारी की मांग की थी. इसे लेकर बरियातू थाना में एफआइआर दर्ज की गयी थी. एफआइआर बरियातू तत्कालीन इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी अजय कुमार केशरी ने दर्ज करायी थी. इसमें कहा गया है कि लवकुश शर्मा जेल के भीतर रहते हुए भी गलत तरीके से फोन का इस्तेमाल कर रंगदारी वसूली रहा है. इलाके के कई व्यवसायियों को कॉल कर धमकी दे रहा है.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button