न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कई महिला समितियों की सदस्य करती हैं मानव तस्करों की मदद

जो युवतियां इसका विरोध करती है. उसे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित भी किया जाता है.

111

Ranchi : दिल्ली जैसे बड़े महानगरों में बेटियों का सौदा करनेवाले मानव तस्करों की मदद सूबे में चलने वाली कई महिला समितियों की सदस्य करती हैं. मिली जानकारी के अनुसार उनका एक गिरोह है. जो मासूम एवं जरूरतमंद युवतियों को नौकरी तथा पढ़ाने का झांसा देकर दिल्ली जैसे बड़े महानगरों में भेजती हैं. फिर उन्हें मानव तस्करों के द्वारा बेच दिया जाता है. जो युवतियां इसका विरोध करती हैं, उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित भी किया जाता है.

इसे भी पढ़ें : गैरमजरूआ जमीन को वैध बनाने का चल रहा खेल, राजधानी के पुंदाग में खाता संख्या 383 की काटी जा रही लगान…

कैसे लड़कियों को फंसाया जाता है जाल में

प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य में काम करने वाली महिला समिति के सदस्यों के द्वारा गरीब लड़कियों को मदद करने के नाम पर कुछ रुपया लोन पर दिया जाता है. फिर कुछ समय के बाद उससे दिए गए लोन को चुकाने को कहा जाता है. लेकिन जब कोई लोन को चुकाने में असमर्थ होती है तब उसे नौकरी दिलाने के नाम पर मानव तस्करों के साथ बाहर भेज दिया जाता है. उसके बाद उसे झांसे में लेकर दिल्ली जैसे बड़े महानगरों में भेज दिया जाता है. जहां ऐसी लड़कियों के साथ मानसिक और शारीरिक शोषण भी किया जाता है.

इसे भी पढ़ें : जर्जर स्कूल में पढ़ने को मजबूर हैं 50 से अधिक बच्चे

 मानव तस्करों का राजनीतिक दल में भी पैठ

 मिली जानकारी के अनुसार मनाव तस्करों का झारखंड के एक राजनीतिक दल में भी पैठ है. इस दल के कुछ नेता मानव तस्करी करने वाले को ना सिर्फ संरक्षण देते हैं. बल्कि जरूरत पड़ने पर पुलिस प्रशासन से बचाने का भी काम करते हैं. ऐसे में यह मानव तस्कर नेताओं के दिए संरक्षण में राज्य की बेटियों का सौदा दिल्ली में कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : पेट्रोलियम पदार्थ की कीमत में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन

 रोहित मुनि चलाता है प्लेसमेंट एजेंसी

 झारखंड की सीआईडी रांची, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, लोहरदगा, समेत राज्य के अन्य हिस्सों से भोली-भाली लड़कियों की तस्करी करने वाले मानव तस्करों के प्लेसमेंट एजेंसी के संचालकों की एक सूची बनाई है. जिसमें रोहित मुनि का भी नाम शामिल है. रोहित मुनि संपूर्ण घरेलू कामगार सर्वेक्षण एवं उत्थान समिति और संपूर्ण आदिवासी सांस्कृतिक उत्थान मंच के नाम से प्लेसमेंट एजेंसी चलाता है. जिस के आड़ में मानव तस्करी का धंधा करता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: