न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, नेहरू से जुड़ी विरासत से छेड़छाड़ न हो

मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि वर्तमान केंद्र सरकार जवाहर लाल नेहरू से जुड़ी विरासत से छेड़छाड़ करना चाहती है

187

NewDelhi : पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि वर्तमान केंद्र सरकार जवाहर लाल नेहरू से जुड़ी विरासत से छेड़छाड़ करना चाहती है. तीन मूर्ति स्थित नेहरू मेमेरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी (एनएमएमएल) की प्रकृति एवं स्वरूप को बदलने की कोशिश  केंद्र सरकार कर रही है. यह सरकार के एजेंडे में शामिल है. मनमोहन सिंह ने मोदी को लिखा है कि जवाहर लाल नेहरू सिर्फ कांग्रेस से संबंध नहीं रखते थे, बल्कि वो पूरे देश के नेता थे. तीन मूर्ति कॉम्प्लेक्स के साथ छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए.  

बता दें कि डॉ सिंह ने यह पत्र इस आलोक में  लिखा है, जब राजनीतिक गलियारों में चर्चा छिड़ी कि केंद्र सरकार नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी में ही देश की सभी पूर्व प्रधानमंत्रियों के लिए म्यूजियम बनवाना चाहती है. उसके बाद कांग्रेस ने आरोप लगाया कि यह नेहरू की विरासत से छेड़छाड़ और उसे कमतर करने की कोशिश है. 

 इसे भी पढ़ें- भाजपा के अजय मारू ने किया सीएनटी एक्ट का उल्लंघन? जमीन ली प्रेस खोलने के लिए, बना दिया मॉल

 दुख की बात है कि मौजूदा सरकार के एजेंडे में यह छेड़छाड़ शामिल है

मनमोहन सिंह ने अपने पत्र में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का भी जिक्र करते हुए लिखा कि लगभग  छह साल से ज्यादा समय तक वाजपेयी प्रधानमंत्री रहे लेकिन उन्होंने कभी भी तीन मूर्ति मेमोरियल के साथ छेड़छाड़ करने की नहीं सोची, लेकिन दुख की बात है कि मौजूदा सरकार के एजेंडे में यह छेड़छाड़ शामिल है. दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के संसद में भाषण का जिक्र करते हुए मनमोहन सिंह ने लिखा है कि नेहरू के निधन पर वाजपेयी जी ने कहा था, इस तरह के निवासी फिर कभी तीन मूर्ति की शोभा नहीं बढ़ा सकते हैं.

 विचारों के अंतर के बावजूद हमारे पास नेहरू के महान आदर्शों, उनकी ईमानदारी, देश के लिए उनके प्यार और उनके अतुलनीय साहस के प्रति सम्मान है. पूर्व पीएम के अनुसार हर हाल में एनएमएमएल का मौजूदा स्वरूप बरकरार रखा जाना चाहिए.  

  इसे भी पढ़ें- IAS महकमा भी विवादों से नहीं अछूता, ब्यूरोक्रेसी की सरकार से ठनी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: