न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#MeToo पर मेनका गांधी ने कहा जांच के लिए बनायी जाएगी 4 सदस्‍यीय कमेटी

123

New Delhi: #MeToo कैंपेन के तहत सामने आ रहे मामलों की सरकार ने जांच कराने का फैसला लिया है. केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका ने शुक्रवार को कहा कि रिटायर्ड जज के नेतृत्व के एक कमिटी का गठन किया जायेगा, जो #Metoo के तहत आने वाले मामलों की जांच करेगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वह ऐसी हर शिकायत के पीछे के दर्द पर भरोसा करती हैं और उन सभी मामलों पर भरोसा करती हैं. उन्होंने कहा कि #MeToo कैंपेन के तहत आने वाले सभी मामलों की जांच के लिए मैंने एक कमिटी बनाने का प्रस्ताव दिया है, जिसमें सीनियर न्यायिक अधिकारी और कानून के जानकार शामिल होंगे.’

इसे भी पढ़ेंः45 प्रमोटी IAS मेन स्ट्रीम से बाहर, सिर्फ दो को ही मिली है जिले की कमान, गैर सेवा से आईएएस बने दो अफसर हैं डीसी

‘ताकतवार होने के बाद पुरुष अक्सर ऐसा करते हैं’

hosp1

यौन शोषण की शिकायतों से निपटने के सभी तरीकों और इससे जुड़े कानूनी और संस्थागत फ्रेमवर्क तैयार करने में यह कमिटी मदद करेगी. बहुत सी महिलायें #Metoo कैंपेन के तहत सोशल मीडिया पर अपने साथ हुए बर्ताव के बारे में लिख रही हैं.  इससे पहले मेनका गांधी ने कहा था कि किसी के भी खिलाफ लगे यौन शोषण के आरोपों को गंभीरता से लिया जाना चाहिये. यह बात उन्होंने उस समय कही थी जब केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर लगे आरोपों पर उनसे सवाल पूछा गया था. उन्‍होंने मंगलवार को कहा था कि ताकतवार होने के बाद पुरुष अक्सर ऐसा करते हैं. यह मीडिया के साथ राजनीति और प्राइवेट कंपनियों पर भी लागू होता है. जब महिला ने इस पर मुखरता से बोलना शुरू कर दिया है तो इन आरोपों को गंभीरता से लिया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःफर्जी नक्सली सरेंडर मामले में हाई कोर्ट सख्त, गृह सचिव तलब, अगली सुनवाई 6 सितंबर को

#Metoo कैंपेन का स्‍वामी कर चुके हैं समर्थन

वहीं सत्ताधारी पार्टी बीजेपी में #Metoo कैंपेन के लिए समर्थन बढ़ रहा है. मेनका गांधी के बाद अपने बयानों के लिए विवादों में रहने वाले बीजेपी नेता और राज्य सभा सांसद सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने भी इस कैंपेन के प्रति समर्थन जाहिर किया है. स्वामी से जब एमजे अकबर को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन पर लगे आरोप किसी एक महिला ने नहीं बल्कि कई महिलाओं ने लगाये हैं. मैं पहले ही कह चुका हूं कि मैं #Metoo कैंपेन का समर्थन करता हूं. मुझे नहीं लगता कि यदि महिलायें लंबे समय बाद सामने आ रही हैं तो इसमें कोई बुराई है. पीएम मोदी को भी इस मुद्दे पर अपना रूख स्पष्ट करना चाहिये.’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: