न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रबंधन और प्रशासन ने सीसीएल की जमीन पर जायसवाल ब्रदर्स को भव्य शो-रूम बनाने दिया, अब कह रहे ढाहेंगे

2,705

Bermo: कथारा के सीसीएल जीएम ऑफिस से महज आधा किमी दूर सीसीएल की जमीन पर बिना कंपनी की इजाजत के, जमीन अतिक्रमण कर एक आलीशान बाइक शो-रूम के लिए भव्य भवन का निर्माण हुआ. ये सारा खेल बेरमो कोयला क्षेत्र के सीसीएल कथारा एरिया में एरिया प्रबंधन, भू संपदा विभाग और सुरक्षा विभाग के सामने दिन के उजाले में हुआ. कथारा फुसरो मेन रोड पर डीएवी जूनियर विंग स्कूल भवन एवं सीसीएल की आवासीय गंगोत्री कॉलोनी के बीच में लगभग 20 डिसमिल सीसीएल जमीन पर कब्जा कर भवन निर्माण किया गया है. कब्जा कर उस जमीन पर बाइक कंपनी का भव्य शो रूम बना कर उद्घाटन कर लिया गया और सभी मूकदर्शक बन तमाशा देखते रहे. खानापूर्ति के नाम पर कागजी कार्रवाई कर अपनी जबाबदेही से बचते रहे. कब्जाधारी और कोई नहीं है बल्कि कथारा का जाना-माना बिजनसमैन जायसवाल परिवार है.

पुलिस-प्रशासन सभी को है पता, पर होता रहा अवैध निर्माण

ऐसा नहीं है कि इस भव्य ईमारत को एक ही रात में बनवा लिया गया है. ऐसा भी नहीं है कि शो-रूम बनने की जानकारी पुलिस और प्रशासन को नहीं थी. बावजूद इसके निर्माण तेजी से होता रहा. दूसरी तरफ कागजों में कार्रवाई होती रही. कथारा सीसीएल के एरिया सिक्युरिटी ऑफिसर कैप्टन एसआर बनर्जी को मामले की जानकारी हुई तो उन्होंने निर्माण कार्य को रोकने के लिए सीसीएल जारंगडीह के पीओ को लिख कर कार्रवाई करने को कहा. फिर भी जायसवाल परिवार ने निर्माण कार्य बंद नहीं किया. मामले को लेकर एरिया सिक्युरिटी ऑफिसर ने बोकारो थर्मल थाना में ऑनलाइन एफआईआर 31.10.2018 को किया. साथ ही बेरमो सीओ को भी इसकी सूचना दी. बेरमो सीओ को सूचना देने के बाद भी कब्जाधारी राजेश जायसवाल निर्माण कार्य कराते रहे. पांच नवंबर और 19 दिसंबर को भी बोकारो थर्मल थाना को लिखित सूचना दी गयी. लेकिन कोई असर नहीं हुआ. निर्माण कार्य बदस्तूर जारी रहा. इतना ही नहीं सिक्युरिटी ऑफिसर ने एक नवंबर 2018 को सीसीएल कथारा एरिया के भू-संपदा पदाधिकारी मिथिलेश प्रसाद को मामले में इविक्शन ऑर्डर निर्गत कर निर्माण कार्य को रोकने एवं निर्मित स्ट्रक्चर को गिराने के लिए लिखा.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

निकालेंगे जमीन खाली कराने का आदेशः भू-संपदा अधिकारी

मामले में न्यूज विंग ने सीसीएल कथारा के भू-संपदा अधिकारी मिथिलेश प्रसाद से बात की. उन्होंने बताया कि अवैध कब्जाधारी राजेश जायसवाल को भू संपदा पदाधिकारी की कोर्ट में उपस्थित होकर जमीन मामले में अपना पक्ष रखने को दिसंबर 2018 में,  25 जनवरी, 01 फरवरी और 15 फरवरी को चार बार कहा गया. लेकिन हर बार राजेश जायसवाल के अधिवक्ता और दूसरे लोगों ने लिखित पत्र देकर मोहलत देने का आग्रह किया. कभी उन्होंने हॉस्पिटल-बीमार तो कभी बाहर होने का बहाना बनाया और तय तारीख पर उपस्थित नहीं हुए. इसके साथ ही कब्जाधारी ने कभी भी जमीन का कागज मांगे जाने पर नहीं दिखाया. कागज के नाम पर 2003 की एक रसीद दिखायी गयी है.

देखें वीडियो-

इसी सप्ताह निकालेंगे इविक्शन ऑर्डरः मिथिलेश प्रसाद

आगे बात करते हुए भू-संपदा अधिकारी मिथिलेश प्रसाद ने कहा कि सीसीएल की जमीन पर कब्जा कर बनाये गये अवैध निर्माण को तोड़ने को लेकर भूसंपदा कोर्ट से इस सप्ताह इविक्शन ऑर्डर निकाला जाएगा. इविक्शन ऑर्डर निकाले जाने के बाद तोड़ने की कार्रवाई जाएगी. उन्होंने कहा कि अब तक मामले में कोई भी मदद पुलिस या प्रशासनिक पदाधिकारियों की ओर से नहीं मिली है. कहा कि इसके अलावा सीसीएल मुख्यालय रांची की ओर से भी कब्जाधारी पर सिविल एफआइआर करने की कार्रवाई की जा रही है. बहरहाल आलम यह है कि सीसीएल के अधिकारी और सुरक्षा पदाधिकारी कार्रवाई को लेकर कागजी घोड़ा दौड़ाते रहे, वहीं दूसरी ओर कब्जाधारी ने शोरूम का निर्माण कर उसका उद्घाटन भी कर दिया है.

सीसीएल की जमीन है, इसमें सीओ क्या कर सकता हैः बेरमो सीओ

मामले पर बेरमो के सीओ मो. मुद्दसर नजर अंसारी ने कहा कि वो जमीन सीसीएल की है. इसमें सर्कल स्तर से कोई कार्रवाई नहीं हो सकती है. जो भी कार्रवाई होगी सीसीएल को खुद से करनी है. वैसे भी मेरे पास लिखित रूप से न ही थाना प्रभारी की तरफ से और न ही सीसीएल की तरफ से कोई आवेदन दिया गया है.

जमीन का मामला है, सीओ देखें : थाना प्रभारी

मामले को लेकर सीसीएल की तरफ से एक आवेदन मेरे पास आया है. लेकिन मामला जमीन से जुड़ा हुआ है. इसलिए इसमें सीओ की तरफ से ही कार्रवाई की जा सकती है. सीसीएल पुलिस-प्रशासन की मदद मांगेगी तो जरूर दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें – सीएम ने की घोषणा- अब प्रखंड समन्वयकों को हर माह मिलेंगे 17,000 रुपये

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like