न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोलकाता में बीजेपी के खिलाफ ममता की महारैलीः 41 साल बाद विपक्ष का बड़ा जमावड़ा

1,001

Kolkata: लोकसभा चुनाव की आहट के बीच शनिवार को विपक्ष शक्ति प्रदर्शन कर रहा है. कोलकाता में आज तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी की विपक्षी दलों की रैली ऐतिहासिक ब्रिगेड परेड मैदान में होगी. उम्मीद है कि 20 दलों के नेता बीजेपी के खिलाफ कोलकाता में साझी लड़ाई का ऐलान करेंगे.

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने दावा कि इस बार बीजेपी 125 सीटों के भीतर सिमट जाएगी. ज्ञात हो कि 41 साल बाद कोलकाता में विपक्ष का इतना बड़ा जमावड़ा लग रहा है. साल 1977 में ज्योति बसु ने यहीं से कांग्रेस के खिलाफ बिगुल बजाया था. बीजेपी ने इसे विपक्ष का डर कहा है.

सपा-बसपा गठबंधन भी साझा करेंगे मंच

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इस रैली में शामिल होंगे. जबकि बसपा की ओर से पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्रा के शिरकत करने की संभावना है.

वहीं रालोद के अजीत सिंह और जयंत चौधरी भी मौजूद रहेंगे. यह पार्टी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एक महत्वपूर्ण राजनीतिक ताकत है. वह भी सपा- बसपा गठबंधन में शामिल होने के लिए बातचीत कर रही है. वहीं, रैली में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व पार्टी के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे करेंगे.

यूपी की राजनीति से नहीं लेना-देना

उप्र में नया चुनावी समीकरण बनाने वाली सपा और बसपा सहित सभी बड़ी विपक्षी पार्टियों की इस रैली में मौजूदगी काफी मायने रखती है. हालांकि, सपा उपाध्यक्ष किरणमय नंदा ने कहा, ‘यह भाजपा विरोधी रैली है. इसलिए कई विपक्षी दल इसमें भाग ले रहे हैं और हम भी इसका हिस्सा हैं. इसका उत्तर प्रदेश की राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है. क्योंकि वह बिल्कुल ही एक अलग मोर्चा है.’

इधर, कांग्रेस को भी यह लगता है कि विपक्ष की महारैली से उप्र में राजनीतिक समीकरण के बारे में गलतफहमी नहीं होनी चाहिए.

Related Posts

जम्मू-कश्मीर : राज्य सचिवालय भवन से जम्मू-कश्मीर का झंडा हटा,  सिर्फ तिरंगा लहराया

जम्मू कश्मीर में अब तक अलग निशान (झंडे) और अलग विधान की परंपरा चली आ रही थी.

SMILE

वहीं रैली का आयोजन कर रही तृणमूल कांग्रेस ने कहा, ‘क्षेत्रीय राजनीतिक मजबूरियों को इस प्रस्तावित रैली से जुड़े बड़े राजनीतिक उद्देश्यों में नहीं मिलाना चाहिए.’

विपक्ष का बड़ा जमावड़ा

इस रैली में जिन अन्य नेताओं के शामिल होने की उम्मीद है, उनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एवं जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं तेदेपा प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू शामिल हैं.

इनके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला के भी शामिल होने की उम्मीद है. कांग्रेस से खड़गे और पार्टी के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी रैली में भाग लेंगे.

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ-साथ राकांपा प्रमुख शरद पवार, पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरूण शौरी, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और झारखंड विकास मोर्चा के बाबूलाल मरांडी भी मंच पर नजर आएंगे. मंगलवार को भाजपा छोड़ने वाले अरूणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री गेगोंग अपांग भी रैली में शामिल होंगे.  बात करें झारखंड की तो पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ममता बनर्जी की ‘यूनाइटेड इंडिया रैली’ में शामिल होंगे.

इसे भी पढ़ेंः रांची नगर निगम ने आयोजित की शहरी समृद्धि उत्सव सह लाभुक सम्मेलन, विपक्ष ने कहा- भाजपा के लिए वोट की राजनीति कर रहा निगम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: