Lead NewsNationalWest Bengal

ममता का राज्यपाल पर डायरेक्ट अटैक, कहा, धनखड़ भ्रष्टाचारी , हवाला जैन मामले में था नाम

राज्यपाल को हटाने के लिए तीन पत्र लिख चुकी हैं बंगाल की सीएम

Kolkata : पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री और राज्यपाल के बीच रिश्तों में दरार कुछ ज्यादा ही बढ़ गयी है. ममता बनर्जी अब जगदीप धनखड़ को हर हाल में प्रदेश से बाहर का रास्ता दिखाना चाहती हैं. उन्होंने कहा कि मैंने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल को हटाने के लिए तीन पत्र लिखे हैं. वह एक भ्रष्ट आदमी है, उसका नाम 1996 में हवाला जैन मामले की चार्जशीट में था.

इसे भी पढ़ें :बड़ी खबर : झारखंड में कोरोना की तीसरी लहर में 7 लाख 17 हजार बच्चे हो सकते हैं संक्रमित, इम्पॉवर्ड कमेटी ने सौंपी सरकार को रिपोर्ट

दीदी ने सीएम बनते ही खोला मोर्चा

Catalyst IAS
ram janam hospital

पश्चिम बंगाल की सत्ता पर तृणमूल कांग्रेस के लगातार तीसरी बार काबिज होने के बाद जगदीप धनखड़ और ममता बनर्जी की लड़ाई और तेज हो गयी है. बहुमत के साथ सत्ता में लौटी तृणमूल कांग्रेस जल्द से जल्द जगदीप धनखड़ को बंगाल से रुखसत करना चाहती है.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ममता ने इस मामले में बंगाल विधानसभा के अध्यक्ष विमान बनर्जी से पहले ही बात कर ली है.

इसे भी पढ़ें :अलकतरा घोटाला: प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा

बंगाल विधानसभा के स्पीकर ने भी की है शिकायत

विधानसभा के स्पीकर विमान बनर्जी ने इस सप्ताह के शुरू में ही लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला से जगदीप धनखड़ की शिकायत की थी. उन्होंने कहा था कि राज्यपाल सदन के कामकाज में अत्यधिक दखलंदाजी कर रहे हैं.

खुद ममता बनर्जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिख चुकी हैं कि जगदीप धनखड़ को पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के पद से हटाया जाये.

इसे भी पढ़ें :कर्मचारियों के लिए PF पर बड़ी राहत, केंद्र सरकार देगी नियोक्ता और कर्मियों दोनों का हिस्सा

ऐसे होती है राज्यपाल की नियुक्ति

संविधान के अनुच्छेद 155 और 156 राज्यपाल को राज्य में केंद्र सरकार का प्रतिनिधि नियुक्त करता है. संविधान के अनुच्छेद 74 में कहा गया है कि प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाले मंत्रिमंडल की मदद करने और उन्हें सलाह देने के लिए राष्ट्रपति बाध्य हैं.

इसका अर्थ यह हुआ कि केंद्र में शासन करने वाली पार्टी राष्ट्रपति के माध्यम से किसी भी राज्य में अपनी पसंद का राज्यपाल नियुक्त कर सकती है.

इसे भी पढ़ें :वित्त मंत्री ने किसानों और भू-रयैतों को दिलाया भरोसा, कहा- उनकी जमीन पर किसी तरह से आंच नहीं आयेगी

Related Articles

Back to top button