National

ममता, प्रियंका को कोरोना महामारी की स्थिती में राजनीतिक नाटक बंद कर देना चाहिए: शिवराज चौहान

विज्ञापन

NewDelhi : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है. शिवराज सिंह ने दोनों को कोविड-19 को लेकर राजनीतिक नाटक नहीं करने की सलाह दी है. साथ ही कहा है कि उन्हें ऐसा करने के बजाए वैश्विक महामारी से निपटने के लिए एकजुट ताकत के रूप में भारत की टीम का हिस्सा बनना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – ICSE बोर्ड ने जारी किया 10वीं व 12वीं का टाइमटेबल, 2 से 12 जुलाई तक होगी परीक्षा

प्रियंका ने प्रवासियों के नाम पर बसों का लाकर नायक किया गया  – शिवराज

चौहान ने पीटीआई-भाषा  को दिये एक इंटरव्यू में कहा कि इन लोगों को हर बात के लिए केवल केंद्र पर दोष लगाना होता है. उन्हें सिर्फ नाटक करना है. कम से कम कोरोना वायरस वैश्विक महामारी जैसी स्थितियों में तो कोई राजनीतिक नाटक नहीं किया जाना चाहिए.

advt

उन्होंने प्रियंका गांधी पर आरोप लगाया कि उन्होंने प्रवासियों के लिए उत्तर प्रदेश प्रशासन को बसों की पेशकश कर नाटक किया.

कांग्रेस और उत्तर प्रदेश सरकार के बीच उस समय राजनीतिक जंग शुरू हो गयी थी. जब प्रियंका ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बताया था कि उनकी पार्टी ने प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी के लिए 1,000 बसों का प्रबंध किया है. उत्तर प्रदेश सरकार ने दावा किया कि जिन 1,000 बसों की सूची सौंपी गयी है, उनके पंजीकरण नंबर ऑटोरिक्शा, कार और ट्रकों के हैं.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandPolitics : क्या झारखंड भाजपा में बाबूलाल नहीं बन सके सर्वमान्य चेहरा

केंद्र के जारी परामर्श पर ममता का सवाल उठाना ठीक नहीं – शिवराज

चौहान ने कहा कि ममता बनर्जी ने केंद्र द्वारा जारी विभिन्न परामर्शों को लेकर कथित रूप से सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इस देश के लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए परामर्श जारी कर रही है. मेरे राज्य को भी परामर्श मिले हैं. लेकिन वे (ममता और प्रियंका) केवल नाटक करना चाहती हैं.

चौहान ने कहा कि केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट ही भारत की टीम का हिस्सा नहीं है. सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और राजनीतिक दल इस टीम का हिस्सा हैं. उन्हें स्वयं को इस टीम का हिस्सा समझना चाहिए और कोरोना वारयस से लड़ना चाहिए.

शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश के संघीय ढांचे का सदा सम्मान किया है. लेकिन इससे विपक्षी दलों को समस्या होती है.

चौहान ने कहा कि हम जब कभी प्रधानमंत्री को फोन करते हैं, वह हमारे लिए उपलब्ध होते हैं. क्या आपने ऐसा प्रधानमंत्री देखा है? केवल मैं ही नहीं, कोई भी मुख्यमंत्री यदि उन्हें फोन करता है, तो वह उनके फोन का तत्काल जवाब देते हैं. वह हमेशा हमसे बात करते हैं, चीजों पर चर्चा करते हैं और हमें सुझाव देते हैं.

इसे भी पढ़ें –15 जिलों में शुरू हुई ट्रूनेट मशीन, केंद्र से मिली है 22 मशीनें, राज्य सरकार ने और 30 का किया है ऑर्डर 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close