West Bengal

ममता बनर्जी का दावा : #NRC को लेकर भाजपा ने बंगाल में बनाया डर का माहौल, छह लोगों की मौत

kolkata : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को आरोप लगाया कि भाजपा ने बंगाल में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) लागू करने को लेकर एक दहशत का माहौल बनाया है. ममता ने कहा कि भाजपा को ऐसा माहौल बनाने के लिए शर्म आनी चाहिए.

जान लें कि देश के कई राष्ट्रीय संस्थानों के निजीकरण के खिलाफ विभिन्न ट्रेड यूनियनों की ओर से कोलकाता के नेताजी इंडोर स्टेडियम में कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. कार्यक्रम में तृणमूल कांग्रेस की कोई भूमिका नहीं थी फिर भी केंद्र के खिलाफ कर्मचारियों की इस लामबंदी को देखते हुए इसमें शिरकत करने ममता पहुंची थी.

इसे भी पढ़ें : #Strike: कोयला उद्योग में 100 फीसदी एफडीआइ के विरोध में बीएमएस की पांच दिवसीय हड़ताल शुरू

बंगाल में कभी भी एनआरसी लागू नहीं करने देंगी

ममता ने दावा किया कि विगत कुछ दिनों में राज्यभर में छह लोगों ने एनआरसी के डर से खुदकुशी कर ली है. जान लें कि रविवार को उत्तर व दक्षिण 24 परगना में तीन लोगों ने खुदकुशी की है. उनके परिजनों ने दावा किया है कि वे एनआरसी को लेकर डर में जी रहे थे. पिछले सप्ताह भी अन्य क्षेत्रों में कुछ लोगों ने कथित तौर पर एनआरसी के कारण खुदकुशी की थी.

इसी को लेकर मुख्यमंत्री ने इंडोर स्टेडियम में कहा कि भाजपा जान-बूझकर इस तरह का माहौल बना रही है. उन्होंने राज्यवासियों को आश्वस्त किया कि वह बंगाल में कभी भी एनआरसी को लागू नहीं करने देंगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि एनआरसी बंगाल या देश में कहीं और लागू नहीं किया जायेगा. असम में समझौते के कारण इसे लागू किया गया है. असम समझौते, 1985 में तत्कालीन राजीव गांधी सरकार और ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किये गये थे. । बांग्लादेश से लगातार घुसपैठ कर वहां बसने वाले प्रवासियों को निकालने के लिए एनआरसी लागू करने की शर्त पर छह साल लंबे चले आंदोलन को खत्म किया गया था.

इसे भी पढ़ें : #NewsWing ने लोगों से पूछा : राज्य के पिछड़ेपन का क्या है कारण, अधिकतर की नजर में #BJP की गलत नीतियां दोषी  

निजीकरण के खिलाफ 18 को रैली, मुख्यमंत्री होंगी शामिल

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझ पर विश्वास रखिए, मैं बंगाल में कभी भी एनआरसी की अनुमति नहीं दूंगी. केंद्र की भाजपा सरकार पर देश के लोकतांत्रिक मूल्यों को खत्म करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र ने देश भर में लोकतंत्र को खत्म कर दिया है.

केवल बंगाल है जहां अभी भी लोकतांत्रिक मूल्य सुदृढ़ हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा नौकरी में कमी या भारतीय अर्थव्यवस्था में गिरावट की बात नहीं कर रही है. तृणमूल प्रमुख ने कहा कि निजीकरण और देश भर में सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों को बंद करने के खिलाफ 18 अक्टूबर को रैली निकाली जायेगी. मैं इसमें हिस्सा लूंगी.

इसे भी पढ़ें :  #SaradhaChitFundScam : गिरफ्तारी से बचने के लिए राजीव कुमार हाई कोर्ट की शरण लेंगे

Related Articles

Back to top button