न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ममता बनर्जी ने कहा, भाजपा ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम में प्रोग्रामिंग की, अदालत में चुनौती देंगे

भाजपा के नेता चुनाव के नतीजे घोषित होने से पहले कैसे कह रहे थे कि देश में उन्हें 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी और बंगाल में 23.

74

Kolkata : भाजपा ने हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव के दौरान अधिकांश ईवीएम में पहले  ही अपने हिसाब से प्रोग्रामिंग कर ली थी.  भाजपा के नेता चुनाव के नतीजे घोषित होने से पहले ही लगभग वास्तविक आंकड़ों का अनुमान कैसे लगा सकते हैं?  वे कैसे कह रहे थे कि देश में उन्हें 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी और बंगाल में 23. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार रात यह बात कही.

इस क्रम में ममता ने  ईवीएम को लेकर सभी विपक्षी दलों से सच उजागर करने के लिए इनवेस्टिगेटिव टीम बनाने का अनुरोध किया.  ममता  बनर्जी ने कहा, हम कांग्रेस से इस बारे में बात कर चुके हैं.  जरूरत पड़ी तो हम अदालत जायेंगे और इस चुनावी धांधली को चुनौती देंगे.

ममता बनर्जी ने हैरानी जताते हुए कहा कि भाजपा के नेता चुनाव के नतीजे घोषित होने से पहले ही लगभग वास्तविक आंकड़ों का अनुमान कैसे लगा सकते  कि देश में उन्हें 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी और बंगाल में 23.  कहा कि अंतिम परिणाम उनके आकलन के करीब ही थे.  ममता  बनर्जी ने एक बांग्ला समाचार चैनल को दिये साक्षात्कार में यह दावा किया. साथ ही  ममता  बनर्जी ने वाम दलों के समर्थकों से भी भाजपा में शामिल होने से बचने को कहा.

इसे भी पढ़ेंः  एससीओ सम्मेलन : पीएम मोदी ने कहा, आतंकवाद को पनाह देने वालों के खिलाफ मिल कर लड़ना होगा

राज्यपाल भाजपा के प्रवक्ता की तरह : ममता

Related Posts

 नजरबंद उमर अब्दुल्ला हॉलिवुड फिल्में देख रहे हैं, महबूबा मुफ्ती किताबें पढ़ समय बिता रही हैं

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 के प्रावधानों को खत्म करने के फैसले से पहले कश्मीर के कई राजनेता नजरबंद किये गये थे.

SMILE

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा खत्म करने के तरीकों पर चर्चा के लिए राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने गुरुवार, 13 जून को बैठक बुलायी थी.   ममता बनर्जी ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, राज्यपाल भाजपा के प्रवक्ता की तरह हैं.  भाजपा ने उन्हें सर्वदलीय बैठक कराने के लिए कहा और उन्होंने ऐसा किया. ममता ने कहा, राज्यपाल ने मुझे भी बुलाया था. लेकिन, मैंने कहा कि मैं नहीं जा सकती क्योंकि आप राज्यपाल हैं और मैं निर्वाचित सरकार हूं.

कानून-व्यवस्था राज्य का विषय है.  यह आपका विषय नहीं है. तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि राज्यपाल एक कप चाय या शांति बैठक के लिए लोगों को बुला सकते हैं.  यही कारण है कि मैं वहां पार्टी प्रतिनिधि भेज रही हूं.  वह जायेंगे और चाय पीकर आ जायेंगे.

इसे भी पढ़ेंः  चेन्नई  : ऑफिस में पानी नहीं है, घर पर रह कर काम करें, आईटी कंपनियों का अपने कर्मचारियों से आग्रह

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: