JamshedpurJharkhandJharkhand Story

Jamshedpur: पूर्वी सिंहभूम जिले में संचालित कुपोषण उपचार केंद्र बेड एक्यूपेंसी व क्योर रेट में राज्य में अव्वल, जान‍िए

Jamshedpur : झारखंड स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा राज्य भर के कुल 26 जिलों में संचालित 96 कुपोषण उपचार केंद्रों का सर्वें कराया गया है. जिसमें वित्तीय वर्ष 2021-22 में क्वार्टरली परफॉर्मेंस रैंकिग (अक्टूर से दिसंबर 2021) के आधार पर पूर्वी सिंहभूम जिले में परिवार कल्याण विभाग की ओर से संचालित कुपोषण उपचार केंद्र ने 112 फीसद अंक के साथ प्रथम स्थान प्राप्त किया है.

इसके अलावा चार कुपोषण केंद्र, जिसने शीर्ष पांच में जगह बनायी है, उनमें पश्चिमी सिंहभूम जिले के चक्रधरपुर को दूसरा एवं चाईबासा को तीसरा, गोड्डा के महागामा स्थित उपचार केंद्र को चौथा एवं पूर्वी सिंहभूम के घाटशिला स्थित कुपोषण उपचार केंद्र को पांचवा स्थान प्राप्त हुआ है. गौरतलब हो कि वित्तीय वर्ष 2021-220 में तृतीय त्रैमास (माह अक्तूबर से दिसंबर 2021 तक) सभी जिलों एवं कुपोषण उपचार केंद्रों का बेड आक्यूपेंसी रेट एवं क्योर रेट के आधार पर क्वार्टरली परफॉर्मेंस रैंकिंग तैयार की गई है.
राज्य में रिकवरी रेट 78 प्रत‍िशत
कुपोषण के लिहाज से राज्य भर में माह अक्तूबर से दिसंबर 2021 तक राज्य की औसत बेड आक्यूपेंसी रेट 49 फीसदी है एवं रिकवरी रेट 78 फीसद है. वहीं कॉम्पोसाइट इंडेक्श के बेड आक्यूपेंसी रेट एवं क्योर रेट के आधार पर तीन जिलों (पश्चिमी सिंहभूम, पूर्वी सिंहभूम व गोड्डा) को गुड परफार्मिंग श्रेणी में पाया गया है. वहीं राज्य के 15 जिले 50 से 75 फीसदी के मध्य एवं 6 जिले 50 फीसदी से कम परफार्मिंग श्रेणी में पाये गये हैं.
27 फीसदी केंद्र गुड परफार्मिंग श्रेणी में
6 जिले जिन्हें खराब प्रफार्मेंस में रखा गया है, उनमें जामताड़ा को 24, रामगढ़ को 23, देवघर को 22, धनबाद को 21, हजारीबाग को 20 और पलामू को 19 अंक प्राप्त हुआ है. इधर, राज्य भर में संचालित कुल 96 कुपोषण उपचार केंद्रों में से 26 यानी की 27 फीसदी केंद्र गुड परफार्मिंग की श्रेणी में पाये गये हैं. वहीं 50 कुपोषण उपचार केंद्रों में से 52 फीसदी मॉडरेट परफार्मिंग और 20 कुपोषण उपचार केंद्र यानी की 21 फीसदी पूवर परफ्रार्मिंग श्रेणी में पाये गये हैं.

ये भी पढ़ें- Jharkhand: जब स्कूलों में बेहोश होने लगे बच्चे तब विभाग को समय में बदलाव के प्रस्ताव का आया होश

ram janam hospital
Catalyst IAS

Related Articles

Back to top button