National

मालदीव की नयी सरकार चीन के साथ फ्री ट्रेड अग्रीमेंट करेगी खत्म, भारत को फायदा

Maldives :  नयी सरकार के गठन के साथ मालदीव में चीन का दखल कम होने लगा है. कूटनीतिक का पलड़ा भारत की ओर झुकता दिख रहा है. नयी गठबंधन सरकार में शामिल देश के बड़ी मुखिया ने इस बात का एलान किया है. बयान के बाद मालदीव चीन के साथ फ्री ट्रेड अग्रीमेंट से बाहर निकलेगा. मालदीव ने दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी इकॉनमी के साथ किये गये करारको द्ववीपीय देश की गलती करार दिया है.

मलदीव सरकार के एलान के साथ समुद्री किनारों पर बना रिजॉर्ट्स के लिए देश में भारत राजनीतिक रूप से मजबूत पकड़ बनता दिख रहा है. मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी के चीफ मोहम्मद नशीद ने कहा, ‘चीन और मालदीव के बीच व्यापारिक असंतुलन बहुत ज्यादा है और कोई भी ऐसी स्थिति में फ्री ट्रेड अग्रीमेंट के बारे में सोच नहीं सकता.

पार्टी के चीफ ने कहा कि पूर्व की सरकार ने देश के खजाने को खाली कर दिया है. देश ने चीन से भारी मात्रा में कर्ज लिया है. जिसके कारण मालदीव अर्थिक संकट से गुजर रहा है. उन्‍होंने इस समझौता को वन-वे करा देते हुए कहा कि अब हमे चीन से कुछ भी समान नहीं खरीदना है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

मालूम हो कि पूर्व की सरकार ने पिछले साल दिसंबर में चीन का दौरा किया था. दौरे के वक्‍त फ्री ट्रेड अग्रीमेंट साइन किया था. एसी महीने विपक्ष के विरोध के बाद भी प्रस्‍ताव को संसद में पास कर लिया गया था.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

Related Articles

Back to top button