न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मन की बातें शेयर करने की आदत डालें,  सोशली कमिटेड नहीं होने के कारण बढ़ रही मानसिक समस्याएं : डॉ नितिन

साइकोलॉजिकल काउंसेलिंग मानसिक स्वास्थ्य की एक थेरेपी है,  लेकिन चिकित्सक के पास जाने से लोग समझ लेते हैं कि व्यक्ति की दिमागी हालत ठीक नहीं है.

52

Ranchi :  मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना जरूरी है. वर्तमान समय ऐसा है कि लोगों की समस्याओं को समझना मुश्किल है,  क्योंकि हर व्यक्ति की समस्या अलग है. भारत में आत्महत्या के आंकड़े अधिक हैं. उक्त बातें स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने कही.

वे गुरुवार को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे. इस क्रम में कहा कि झारखंड को देखें तो जमशेदपुर में आत्महत्या की दर सबसे कम है. इस दौरान उन्होंने कहा कि आज सोशली कमिटेड नहीं होने के कारण ऐसी समस्याएं बढ़ रही हैं.

इसलिए हमें अपने मन की बातों को शेयर करने की आदत डालनी चाहिए. स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि आज लोगों के पास ऐसी-ऐसी समस्याएं हैं जिनके बारे में हम सोच भी नहीं सकते,  क्योंकि यह हमारे लिए महत्व नहीं रखतीं.

इस संबंध में जानकारी देते हुए डॉ कुलकर्णी ने कहा कि साइकोलॉजिकल काउंसेलिंग मानसिक स्वास्थ्य की एक थेरेपी है,  लेकिन चिकित्सक के पास जाने से लोग समझ लेते हैं कि व्यक्ति की दिमागी हालत ठीक नहीं है. कहा कि ऐसी सोच से बाहर निकलने की जरूरत है. स्कूलों में भी व्यवस्था होनी चाहिए कि असेंबली के दौरान मानसिक स्वास्थ्य पर चर्चा हो.

इसे भी पढ़ें : #JharkhandElection: 25 Oct से लेकर 5 Nov तक हो सकती है झारखंड में चुनाव की घोषणा, पार्टियां बड़ी रैली की तैयारी में

Mayfair 2-1-2020

संयुक्त परिवार प्रथा कम होने से मानसिक समस्याएं बढ़ रही हैं

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अभियान निदेशक डॉ शैलेश कुमार चौरसिया ने कहा कि संयुक्त परिवार की प्रथा  बहुत तेजी से बिखरी है. अब बहुत कम परिवार ही संयुक्त बचे हैं. ऐसे में मानसिक समस्याओं का मुख्य कारण इसे भी माना जाता है. ऐसी चर्चाओं को जनता के बीच ले जाना जरूरी है. कामकाज के दौरान शारीरिक थकान हो न हो, पर मानसिक थकान हो जाती है. इसी के लिए वेलनेस स्वास्थ्य कार्यक्रम की शुरुआत की गयी,  जिससे काम के दौरान मानसिक रूप से थकने से बचा जा सकता है.

इसे भी पढ़ें : #Dhullu: विधायक ढुल्लू महतो की सजा पर लोगों ने दी प्रतिक्रिया, कहा – भाजपा राज में कानून व्यवस्था नाम की चीज हो गयी है खत्म

Sport House

अलग अलग विषयों पर हुई चर्चा

कार्यक्रम के दौरान राज्य नोडल पदाधिकारी डॉ एलआर पाठक ने मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के संबंध में विस्तार से बताया. डॉ निशांत गोयल ने चाइल्ड एंड एडोलेसंट मेंटल हेल्थ प्राब्लम विषय पर, डॉ अजय बाखला ने सुसाइड ओवरव्यहु एंड रोल ऑफ मिडिया पर और डॉ एआर सिंह ने नीड ऑफ प्रोमोशन ऑफ स्कूल मेंटल हेल्थ विषय पर विस्तार से बताया. मौके पर निदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं डॉ वीएस दास, डॉ यूसी सिन्हा, डॉ आरके वर्मा, डॉ अजीत प्रसाद, परामर्शी शांतना कुमारी समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : राज्य में #InformationCommissioners के 9 पद रिक्त, Supreme court ने दिया था रिक्त पद भरने का निर्देश, सरकार उदासीन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like