न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजनीति नहीं, पर्यावरण संरक्षण के लिए हुआ था मकर संक्रांति महोत्सव का आयोजन : शैलेश्वर सिंह

17
  • हर क्षेत्र के प्रबुद्ध लोगों को बुलाया गया था कार्यक्रम में

Ranchi : राष्ट्र निर्माण सेना की ओर से शुक्रवार को प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया. राष्ट्र निर्माण सेना के संरक्षक शैलेश्वर दयाल सिंह ने बताया कि 12 जनवरी से 15 जनवरी तक संगठन की ओर से मकर संक्रांति महोत्सव का आयोजन किया गया था, जिसे लेकर अब राजनीति करने के आरोप लग रहे हैं. उन्होंने कहा कि आयोजन किसी राजनीतिक दल से प्रेरित होकर नहीं, बल्कि यह पूर्णतः पर्यावरण सरंक्षण और युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए किया गया था. इसका मुख्य उद्देश्य कांके डैम संरक्षण था, जिसमें हर राजनीतिक दल के वरिष्ठ नेताओं, समाज के प्रबुद्ध लोगों, सामाजिक कार्यकर्ताओं आदि को बुलाया गया था. सिंह ने कहा कि आयोजन में झामुमो नेता सुप्रियो भट्टाचार्य और कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय शामिल हुए थे. इसके बाद से लोगों को लगने लगा कि यह पार्टी प्रमुख कार्यक्रम है. इसके बाद 15 जनवरी को खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष संजय सेठ आधे रास्ते से लौट गये, जिससे संगठन कार्यकर्ताओं को निराशा हुई. साथ ही कई प्रमुख संगठन जैसे झारखंड सिविल सोसाइटी आदि हमारे संगठन पर राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं.

समाज के प्रबुद्ध लोगों को दिया गया था आमंत्रण

hosp1

राष्ट्र निर्माण सेना के अध्यक्ष अमृतेश पाठक ने बताया कि आयोजन में शामिल होने के लिए प्रमुख नेताओं, मंत्रियों, सांसदों, समाजसेवियों, पुलिस प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों समेत हर क्षेत्र के प्रबुद्ध लोगों को आमंत्रण दिया गया था. ऐसे में सिर्फ सुप्रियो भट्टाचार्य और सुबोधकांत सहाय महोत्सव में शामिल हुए, जिससे लोगों को लगने लगा कि यह राजनीति का एक हिस्सा है, जो समाज में गलत संदेश दे रहा है. उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में आये सभी अतिथियों को समान सम्मान दिया गया. यह कोई राजनीति नहीं थी. मौके पर मुनि लाल उरांव, किशोर महापात्रा, हेमंत तिर्की समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- झारखंड के ऊर्जा विभाग ने घाटे में चल रहे पीएसयू में किया निवेश, 2092.21 करोड़ का नुकसान

इसे भी पढ़ें- हममें भी कमियां हैं, स्वीकारते हैं, हम अविकसित राज्य हैं, हमें विकासशील बनना हैः मुख्यमंत्री

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: