National

कुंडली बॉर्डर पर पकड़े गए संदिग्ध का बड़ा खुलासा, किसानों के दबाव में बनाई कहानी

Uday Chandra

New Delhi : गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर मार्च के दौरान हिंसा फैलाने की साजिश रचने का संदिग्ध आरोपी योगेश अपने बयान से पलट गया है.

कुंडली बॉर्डर से कल पकड़ा गया युवक योगेश का एक वीडियो सामंने आया है जिसमें वह कह रहा है कि उसने किसानों के दबाब में आकर पत्रकारों के सामने गलत बयान देते हुए पुलिस की वर्दी में फायरिंग की साजिश की बात कही थी.

योगेश का कहना है कि उसे कुछ लोगों ने कैंप में ले जाकर मारा. फिर रात को शराब पिलाकर कहा कि हम जो बोलेंगे वही बोलना पड़ेगा.

योगेश सोनीपत के ही न्यू जीवन नगर का रहने वाला है. दिल्ली पुलिस की अपराध जांच शाखा लगातार उससे पूछताछ कर रही है. पुलिस की टीम उसे दिल्ली स्थित उसके मामा के घर लेकर भी गई. पकड़े गए युवक का जो वीडियो सामने आया है उसमें उसने पुलिस के सामने कहा है कि उसे किसानों ने मारपीट कर प्रेस के सामने झूठ बोलने के लिए विवश किया था.

युवक ने बताया कि उसके मामा के घर बेटे का जन्म हुआ था. वह वहां से लौट रहा था. उसे किसानों ने एक दिन पहले पकड़ा था. उससे मारपीट कर उसे प्रेस के सामने झूठ बोलने को विवश किया गया था, जिसके चलते सीआइए अब पूरे मामले की सच्चाई जानने का प्रयास कर रही है.

इसे भी पढ़ें- नेता जी के सपनों का भारत बनना अभी बाकी : गाज़ी रहमतुल्लाह रहमत

वीडियो में योगेश बता रहा है कि उसके साथ मारपीट करने के बाद खाना खिलाया गया और दारू भी पिलाई, जिसके बाद उन लोगों ने उसका वीडियो बनाया. मेरे साथ 4 और लड़के पकड़े थे जिसमें एक का नाम सागर था. बाकी के नाम मुझे पता नहीं.

सागर ने बताया कि उसे भी मारा गया. योगेश ने कहा कि उनलोगों ने मुझे डराया और कहा कि हमने सागर को मार दिया. अब तुझे छूटना है कि नहीं.

योगेश का कहना है कि उन्होंने कहा कि जो हम कहेंगे, उसे तुझे प्रेस के आगे बोलना है. वहां एक झूठी कहानी बनाई गई जो मैंने मीडिया के आगे बताई. उनसे छूटने के लिए मैंने ये सब कहा और पुलिस के सामने जाते ही मैंने सब सच-सच पुलिस को बता दिया.

सीआइए की टीम अब उसे दिल्ली उसके मामा के घर लेकर गयी है. शुक्रवार रात को कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों ने एक युवक को पकड़कर पत्रकारों के सामने उसकी बातचीत कराई थी.

इस दौरान युवक ने चार किसानों की हत्या की साजिश से लेकर राई थाना के एसएचओ प्रदीप का नाम लिया था. किसानों का आरोप था कि कुछ युवक उनके आंदोलन को बदनाम करने के साथ ही चार किसान नेताओं की हत्या कराने की साजिश रच रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- धनबाद: रैली निकाल कर नेताजी की मनाई गयी 125वीं जयंती, लोगों ने कहा नहीं मिला उचित सम्मान

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: