JharkhandLead NewsRanchi

झारखंड में मैथिली भाषा को किया जा रहा दरकिनार, अब एकजुट होकर आंदोलन की राह पर उतरेगा मिथिला समाज 

Ranchi : मिथिला समाज ने चिंता जाहिर की है कि झारखंड में राज्य सरकार मैथिली भाषा को अपेक्षित सम्मान नहीं दे रही. बल्कि इसे पूरी तरह दरकिनार करने पर सरकार लग गयी है. ऐसे में अब यह समाज एकजुट होकर आंदोलन की राह पर उतरेगा. कांके, रांची में मिथिला समाज के बुद्धिजीवियों की बैठक में इस पर रणनीति बनी है. बैठक का मुख्य उद्देश्य समाज के सभी लोगों एवं विभिन्न संगठनों को एक छत के नीचे आकर एक सूत्र में बंधने का सन्देश देना था.

इसे भी पढ़ें :  हाई सिक्योरिटी जोन मोरहाबादी में चली अंधाधुंध गोलियां, दो युवक घायल, एक गंभीर

रांची दूरदर्शन के पूर्व निदेशक (सेवानिवृत्त) प्रमोद कुमार झा ने कहा कि मैथिली भाषा को राज्य में और धार देने को जरूरी है ताकि इस समाज से जुड़े लोग अपने अपने घरों में अनिवार्य तौर पर इस भाषा को बोलें. इसे व्यावहारिक भाषा बनायें. आइआइसीएम, रांची के निदेशक पीसी मिश्रा ने कहा कि मैथिली भाषा को समृद्ध, सशक्त करने में लगे इस समाज के सभी संगठनों को एक छत के नीचे आना ही होगा. अपनी एकता प्रदर्शित करनी ही होगी. रिटायर्ड हेडमास्टर मोहन झा ने भी मैथिली भाषा के प्रति अपना स्नेह, रुचि बढ़ाने की अपील समाज के लोगों से की.

इसे भी पढ़ें :  Ranchi News : रिम्स में कोविड सस्पेक्टेड युवक की मौत

कहा कि दुखद यह भी है कि समाज के लोग ही अपनी भाषा को लोकप्रिय और रुचिकर बनाने, इसके प्रचार-प्रसार में गंभीरता नहीं दिखा रहे. इसमें सुधार से ही मैथिली भाषा के लिए आंदोलन को बल मिलेगा. मौके पर आरसी चौधरी, व्यवसायी कुमुद झा, रांची नगर निगम के जिला स्वास्थ्य पदाधिकारी डॉ आनंद शेखर झा, प्रख्यात हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ राजेश झा एवं इनटी डॉ आरके झा, गोपाल झा, बिनोदानंद झा, नवीन कुमार झा सहित अन्य ने भी अपनी बात रखी.

राजनीतिक पार्टी का जेबी संगठन न बने समाज

डॉ आरसी झा ने कहा कि मिथिला समाज के संगठन को राजनीतिक पार्टी विशेष का जेबी संगठन नहीं बनाया जाना चाहिए. एक जगह एकत्रित होकर अपने हक़ के लिए लड़ना होगा. मिथिला समाज के कुछ लोग समाज को अपनी इच्छानुसार घुमाने का काम कर रहे हैं. सभी की इच्छा है कि रांची सहित दूसरे जिलों में मिथिला समाज एक सूत्र में बंधे. इसके लिए इससे जुड़े सभी संगठनों को पहले एक जगह लाना होगा.

इसे भी पढ़ें : किशनगंज के सरकारी स्कूल में गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज जलाने की कोशिश की, प्रिंसिपल ने की शिकायत

Advt

Related Articles

Back to top button