न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महेश पोद्दार ने JBVNL को दिखाया आईना, कहा- बिजली पर्याप्त, डिस्ट्रीब्यूशन ठीक नहीं, लोड बढ़ना और कम उत्पादन सिर्फ बहाना

बोकारो को कम से कम 20 घंटा ही बिजली मुहैया कराये सरकार

208

Ranchi: झारखंड सरकार के मुखिया रघुवर दास के ऊर्जा विभाग की वजह से पूरे झारखंड में त्राहिमाम की स्थिति है. हालात यह है कि अब बीजेपी के राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार को जेबीवीएनएल को आईना दिखाना पड़ रहा है. वहीं बीजेपी के विधायक रघुवर दास से मिल कर बिजली व्यवस्था को दुरुस्त करने की बात कह रहे हैं. बोकारो विधानसभा के विधायक बिरंची नारायण और धनबाद विधानसभा के बीजेपी विधायक राज सिन्हा ने मंगलवार को सीएम से मुलाकात की. मिलने के बाद विधायक बिरंची नारायण ने अपने फेसबुक पर पोस्ट किया कि चास-बोकारो को कम-से-कम 20 घंटे ही बिजली विभाग बिजली मयस्सर कराये. वहीं धनबाद विधायक ने भी धनबाद में बिजली की हालत सुधारने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – दरिंदगीः पिता ने अपने दो बेटों को जिंदा जलाया, एक की मौत-दूसरा लड़ रहा जिंदगी की जंग, पत्नी गंभीर 

hotlips top

JBVNL कर रहा है मुद्दे से भटकाने की कोशिशः सांसद

सीएम की तरफ से बिजली व्यवस्था को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के बाद राज्य सभा सांसद महेश पोद्दार ने एक के बाद एक तीन ट्वीट किये हैं. उन्होंने अपने सबसे पहले ट्वीट में लिखा- “बिजली समस्या पर #JBVNL द्वारा मुद्दे से भटकाने की कोशिश. लोड बढ़ने और कम उत्पादन की बात कह कर बचाव की कोशिश गलत. मसला उत्पादन का नहीं, डिस्ट्रीब्यूशन का है. सेंट्रल पूल में जितनी चाहो बिजली उपलब्ध है, दर भी सस्ती है, नेशनल ग्रिड की वजह से कोई तकनीकी बाधा भी नहीं. भरमायें नहीं.”

दूसरा ट्वीट

दूसरे ट्वीट में सांसद पोद्दार ने लिखा- “अपने प्लांट अगर सस्ती बिजली उत्पादित कर रहे हों तभी फायदा है. अगर अक्षम तरीके से चलाये जायेंगे तो उत्पादित बिजली कम भी होगी और महंगी भी. कैसे और कहां से परचेज करें, कैसे वितरण करें, कैसे कलेक्शन करें, इनपर चिंता करें. पहले किये गए PPA कंपटीटिव बीडिंग से हैं या नहीं, इसकी भी समीक्षा करें.”

30 may to 1 june

तीसरा ट्वीट

तीसरे ट्वीट में सांसद पोद्दार ने लिखा- “श्री @narendramodi जी की सरकार ने सुविधाएं सुलभ करने के साथ ही उससे जुड़ी जानकारियां भी सबको सुलभ करा दी हैं. उपभोक्ताओं को तकनीकी जटिलता में उलझा कर निकलना अब संभव नहीं. बार-बार विकल्प आजमाने की मांग इसी वजह से हो रही है.”

इसे भी पढ़ें – पतरातू की बेटी मनाली गुप्ता टॉपर, लड़कों के मुकाबले लड़कियां फिर निकलीं आगे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like