Dharm-JyotishJamshedpurJharkhand

Mahashivratri 2022: खास महायोग में  मन रहा महाशिवरात्रि, श‍िवालयों में जलाभ‍िषेक को लगा तांता, जमशेदपुर में यहां होती सवा लाख श‍िवलिंग की पूजा

मैथिल समाज की महिलाएं, कुंवारी कन्याएं और बुजुर्ग इस पार्थिव पूजन में बढ़- चढ़कर हिस्सा लेते हैं और परिवार व समाज कल्याण की कामना करते हैं.

Jamshedpur: आज महाशिवरात्रि है. खास महायोग में महाश‍िवरात्र‍ि मन रहा है. पूजन-अर्चन को श‍िवालयों में श्रद्धालुओं का तांता लगा है.  महाशिवरात्रि पर धनिष्ठा नक्षत्र में परिधि नामक योग बन रहा है, जो शिवभक्तों के लिए बेहद लाभकारी है. सुबह से ही मंदिरों में लोग पहुंच रहे हैं और भगवान को भोले को जलाभिषेक कर रहे हैं. शिवालय ओम नम: शिवाय से गूंज रहे हैं.

पूरा लौहनगरी शिवमय हो गया है.  कहीं भक्तों ने उपवास व्रत रखते हुए जलाभिषेक किया, तो कहीं रुद्राभिषेक के साथ भगवान भोलेनाथ की पूजा -आराधना की.कई मंदिरों में श्रद्धालुओं को 3 से 4 घंटे दर्शन-पूजन के लिए इंतजार करना पड़ा. वैसे शाम में कई शिवालयों से भगवान भोलेनाथ की बारात की भी तैयारी है, जिसको लेकर भक्तों में खासा उत्साह है.

लक्ष्‍मी नाथ गोस्‍वामी मंदि‍र में होती व‍िशेष पूजा

ram janam hospital
Catalyst IAS

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

मिथिलांचल में महाशिवरात्रि की खास महत्ता है. लौहनगरी जमशेदपुर के बिष्टुपुर स्थित परमहंस लक्ष्मी नाथ गोस्वामी मंदिर के महाकाल शिव मंदिर में महाशिवरात्रि के मौके पर विशेष पूजा -अर्चना की जाती है.  इसकी खासियत यह है कि यहां मिट्टी के सवा लाख शिवलिंग बनाई जाती है और उसका रुद्राभिषेक कर पूरे वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजा -अर्चना की जाती है. उसके बाद भक्तों के बीच प्रसाद का वितरण किया जाता है. इस विशेष पूजा को पार्थिव पूजन के नाम से जाना जाता है. मैथिल समाज की महिलाएं, कुंवारी कन्याएं और बुजुर्ग इस पार्थिव पूजन में बढ़- चढ़कर हिस्सा लेते हैं और परिवार व समाज कल्याण की कामना करते हैं.

ये है मान्‍यता

मान्यता है कि पार्थिव पूजन से भगवान भोलेनाथ सारे कष्टों को हर लेते हैं. समिति के सचिव भगवान दत्त झा ने बताया कि महाशिवरात्रि के मौके पर पार्थिव पूजन की परंपरा सदियों से चली आ रही है. पूरे विधि- विधान और वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सवा लाख शिवलिंग की पूजा की जाती है. तत्पश्चात भक्तों के बीच प्रसाद का वितरण किया जाता है.

ये भी पढ़ें-प्रधानमंत्री जन औषधि योजना: जरूरतमंदों के लिए साबित हो रहा वरदान

Related Articles

Back to top button