न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#MaharashtraPolitics : उद्धव ठाकरे ने कहा, यह महाराष्ट्र पर सर्जिकल स्ट्राइक, बोले पवार, अजित पवार का फैसला अनुशासनहीनता

महाराष्ट्र में भाजपा का समर्थन करने वाले राकांपा विधायकों को यह बात पता होनी चाहिए कि उन पर दल बदल विरोधी कानून लागू होगा

79

Mumbai  : महाराष्ट्र में नाटकीय घटनाक्रम के बीच भाजपा के देवेंद्र फड़णवीस के मुख्यमंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी नेता अजित पवार के उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के मद्देनजर राकांपा प्रमुख शरद पवार ने शनिवार को कहा कि भाजपा का समर्थन करने वाले पार्टी विधायकों को पता होना चाहिए कि उनके इस कदम पर दल बदल विरोधी कानून लागू होगा. शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे.

पवार ने संवाददाता सम्मेलन में कहा,महाराष्ट्र में भाजपा का समर्थन करने वाले राकांपा विधायकों को यह बात पता होनी चाहिए कि उन पर दल बदल विरोधी कानून लागू होगा. उन्होंने कहा कि अजित पवार का फैसला अनुशासनहीनता है और कोई भी राकांपा कार्यकर्ता फड़णवीस के नेतृत्व वाली सरकार के समर्थन में नहीं है.

Sport House

इसे भी पढ़ें : #MaharashtraGame : फडणवीस के शपथ लेने पर कांग्रेस ने कहा, भाजपा ने लोकतंत्र की सुपारी ली, राज्यपाल अमित शाह के हिटमैन  

राज्यपाल के धोखे से इनकार नहीं किया जा सकता 

राकांपा विधायकों ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उन्हें राज भवन ले जाया गया लेकिन उन्हें यह मालूम नहीं था कि उन्हें शपथ ग्रहण समारोह के लिए ले जाया जा रहा है. पवार ने कहा कि अजीत पवार को हटाने के बारे में फैसला पार्टी की बैठक में लिया जायेगा. उन्होंने कहा कि राज्यपाल के धोखे से इनकार नहीं किया जा सकता और अजित पवार ने राकांपा विधायकों की बनी बनायी सूची सौंपी होगी.

Related Posts

#CAA : भाजपा ने कांग्रेस को मुस्लिम लीग कांग्रेस कहा,  अशोक चव्हाण बोले,  तुष्टीकरण हम नहीं करते, यह भाजपा का धंधा  

कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण के बयान को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर मुस्लिम तुष्टीकरण के आरोप लगाये हैं.

पवार ने कहा, भाजपा के पास सरकार गठन के लिए पर्याप्त संख्या नहीं है.  हम शिवसेना के नेतृत्व में सरकार चाहते हैं, हम एकजुट हैं. संवाददाता सम्मेलन में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि यह महाराष्ट्र पर सर्जिकल स्ट्राइक है और लोग इसका बदला लेंगे.

Mayfair 2-1-2020

ठाकरे ने कहा कि इस तरह सरकार का गठन संविधान और महाराष्ट्र के लोगों के जनादेश का अपमान है. जान लें कि  फड़णवीस और अजित पवार ने शनिवार सुबह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली. यह शपथ ग्रहण ऐसे समय में हुआ है जब एक दिन पहले शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस के बीच मुख्यमंत्री पद के लिए शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के नाम पर सहमति बनी थी.

इसे भी पढ़ें : महाराष्ट्र प्रकरण :  संवैधानिक संस्थाओं का ‘कुशल’ इस्तेमाल कैसे बार-बार भाजपा को सत्ता तक पहुंचा देता है

 

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like