National

#MaharashtraAssemblyElection: बीजेपी की सहयोगी पार्टी ने दिया अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के भाई को टिकट

Mumbai: महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव 2019 के लिए सभी पार्टियां कमर कस चुकी हैं. गठबंधन फाइनल हो चुका है. सीटों का बंटवारा हो चुका है. उम्मीदवारों की घोषणा जारी है. ऐसे में एक चौंकानेवाला नाम सामने आया है.

सत्तारूढ़ भाजपा की सहयोगी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) ने पश्चिमी महाराष्ट्र के फलटण विधानसभा क्षेत्र से अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के भाई दीपक निकालजे को मैदान में उतारा है. छोटा राजन फिलहास जेल में बंद है. रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के प्रमुख रामदास अठावले केंद्र सरकार में मंत्री हैं.

इसे भी पढ़ें – देखें वीडियोः शशिभूषण मेहता के #BJPमें शामिल होने पर बीजेपी कार्यालय में जमकर मारपीट, वीडियो वायरल

advt

बीजेपी का असली चेहरा बेनकाब हो रहा हैः एनसीपी

इस घटना के सामने आने के बाद सियासी गलियारे में हलचल तेज हो गयी है. दीपक को टिकट दिये जाने पर एनसीपी के प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि पहले उन्होंने आतंक के आरोपियों को मैदान में उतारा और अब वे अंडरवर्ल्ड डॉन के रिश्तेदारों को मैदान में उतार रहे हैं. बीजेपी का असली चेहरा बेनकाब हो रहा है.

केंद्रीय मंत्री की है पार्टी

राज्य में 21 अक्टूबर को होनेवाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा, शिवसेना और अन्य छोटे सहयोगियों के बीच सीटों के बंटवारे के तहत केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के नेतृत्व वाली आरपीआइ को छह सीटें दी गयी हैं. अठावले ने बुधवार को मुंबई में उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की. जिनमें छोटा राजन के भाई दीपक निकालजे का नाम भी शामिल है.

इसे भी पढ़ें – News Wing Impact: जिस डिफेंस लैंड पर माफिया ने किया था कब्जा, प्रशासन ने रद्द किया उसका म्यूटेशन

इस मामले में पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इस बार उन्होंने (छोटा राजन के भाई) फलटण से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की क्योंकि वह उस इलाके से आते हैं और उनका वहां अच्छा संपर्क है. अन्य पांच सीटें जहां से आरपीआइ के उम्मीदवार होंगे, वे हैं सोलापुर जिले के मालशिरस, नांदेड़ जिले के भंडारा और नयगांव, परभणी में पाथरी और मुंबई में मानखुर्द-शिवाजी नगर.

adv

पहले भी लड़ा था चुनाव

कई वर्षों से आरपीआइ से जुड़े निकालजे ने इससे पहले भी पार्टी के टिकट पर मुंबई के चेंबूर से विधानसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन तब वह हार गये थे. फिलहाल वह इस बार अपनी जीत को लेकर काफी आश्वस्त नजर आ रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – 67 साल में देश पर कर्ज 54.90 लाख करोड़, मोदी सरकार में 34.90 लाख करोड़ बढ़कर हुआ 89.80 लाख करोड़

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button