न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महाराष्‍ट्र : उद्धव ठाकरे और फडणवीस के बीच पक रही है खिचड़ी, एक साथ चुनाव लड़ने की तैयारी!  

2019 के लोकसभा चुनाव में आपसी मतभेदों को भुलाकर शिवसेना को एक साथ लाने की देवेंद्र फडणवीस की मुहिम परवान चढ़ रही है. जानकार सूत्र बताते हैं कि महाराष्‍ट्र में भाजपा और शिवसेना दोनों  समझौते के मुहाने पर हैं

52

 Mumbai : शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे और महाराष्‍ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस के बीच चुनाव को लेकर खिचड़ी पक रही है. बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में आपसी मतभेदों को भुलाकर शिवसेना को एक साथ लाने की देवेंद्र फडणवीस की मुहिम परवान चढ़ रही है. जानकार सूत्र बताते हैं कि महाराष्‍ट्र में भाजपा और शिवसेना दोनों  समझौते के मुहाने पर हैं. भाजपा के एक वरिष्‍ठ नेता ने इसकी पुष्टि भी की है.  हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि शिवसेना ने गठबंधन से पहले भाजपा के सामने कुछ शर्तें रखी हैंभाजपा नेता के अनुसार पिछले कुछ दिनों में बातचीत में काफी प्रगति हुई है लेकिन  पूरा विवरण का पता नही.  क्‍योंकि केवल मुख्‍यमंत्री बातचीत कर रहे हैं और उन्‍होंने इस बारे में केवल पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह को बताया है. बता दें कि बुधवार को महापौर बंगले में शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बीच हुई चाय पर चर्चा के बाद दोनों पार्टियों के बीच संबंधों की गर्माहट फिर से बढ़ने की खबर आने लगी हैं.  

 शिवसेना विधानसभा की 288 सीटों में बराबर हिस्सा चाहती है

 भाजपा के वरिष्ठ नेता और राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटील ने  गुरुवार को मंत्रालय में पत्रकारों से कहा कि शिवसेना-भाजपा के बीच रोज बैठकें होती रहती हैं.  उन्होंने कहा कि दोनों के बीच गठबंधन का ऐलान कभी भी हो सकता है. खबर है कि शिवसेना ने भाजपा के सामने विधानसभा की 288 सीटों के बराबर-बराबर बंटवारे की शर्त रखी है;  वहीं लोकसभा के लिए 2014 के बंटवारे को ही यथावत रखने का प्रस्ताव दिया है;  इसमें भी शिवसेना की शर्त यह है कि पालघर की सीट उसे दी जाये. इस बीच शिवसेना के प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राऊत ने कहा कि उन्हें गठबंधन की चर्चा के बारे में कुछ मालूम नहीं है. कहा कि कहीं भी और जिस किसी के बीच भी यह चर्चा चल रही है उसे चलने दो;  प्रपोजल भेजने और स्वीकारने के लिए शिवसेना कोई मैरिज ब्यूरो है क्या?  कहा कि शिवसेना सेहरा बांधकर किसी के प्रपोजल का इंतजार नहीं कर रही है;  हम तो कब का अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुके हैं और पार्टी इसकी तैयारी में लगी है.

महाराष्ट्र में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ नहीं  

Related Posts

अमित शाह ने एनएसए डोभाल  के साथ कश्मीरियों की सहूलियतों  पर चर्चा की, अफवाहों को  कुचलने का निर्देश

हिंसा भड़काने के मकसद से  परोसी जा रही गलत खबरों और तरह-तरह की अफवाहों को कठोरता से कुचलने का निर्देश दिया गया.

SMILE

भाजपा आलाकमान ने महाराष्ट्र के नेताओं को संदेश भेजा है कि महाराष्ट्र में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ नहीं होंगे. यह खबर गुरुवार को दिल्ली से आयी है. बताया गया कि भाजपा नेतृत्व ने यह संदेश इसलिए भेजा है, ताकि कार्यकर्ता किसी भ्रम में नहीं रहें. भाजपा नेता चंद्रकांत पाटील ने भी पत्रकारों के समक्ष इस बात को दोहराया कि राज्य में विधानसभा और लोकसभा के चुनाव एक साथ नहीं होंगे. हालांकि कहा जा रहा है कि शिवसेना राज्य में एक साथ चुनाव कराना चाहती है. जानकारों का कहना है कि शिवसेना को डर है कि लोकसभा चुनाव में गठबंधन का लाभ लेकर, विधानसभा में भाजपा उसे 2014 की तरह धोखा दे सकती है. दिल्ली में संसद के बजट सत्र से पहले हुई शिवसेना संसदीय दल की बैठक में भी महाराष्ट्र में भाजपा के साथ गठबंधन के मुद्दे पर हुई चर्चा हुई है.  खबरों के अनुसार शिवसेना सांसदों ने राय व्यक्त की है कि अगर दोनों पार्टियां अलग-अलग लड़ीं, तो शिवसेना घाटे में रहेगी. बता दें कि शिवसेना के अभी 18 सांसद हैं.

 इसे भी पढ़ेंः 2019 लोकसभा चुनाव : एबीपी न्यूज और सी-वोटर के सर्वे में मोदी लहर नहीं, लोकसभा होगी त्रिशंकु

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: