JharkhandLead NewsNationalNEWSRanchiTOP SLIDER

महाराष्ट्र सियासी संकट: अकेले ही पड़ते जा रहे हैं उद्धव ठाकरे, आज सदस्यता मामले में सुनवाई भी

New Delhi: महाराष्ट्र में जारी सियासी संग्राम में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अकेले ही पड़ते जा रहे हैं. एक-एक कर पार्टी नेता उनका दामन छोड़कर एकनाथ शिंदे के खेमे में जा रहे हैं. विधायक ही नहीं मंत्री भी उनसे दामन छुड़ाने लगे हैं.उद्धव खेमे में अब गिनती के तीन विधायक बचे हैं. जिनमें उद्धव के पुत्र आदित्य ठाकरे, अनिल परब और सुभाष देसाई ही बचे हैं. इधर, 15 विधायकों की सदस्यता रद्द करने को लेकर डिप्टी स्पीकर के नोटिस को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है. शिंदे गुट की इस याचिका पर आज सुनवाई होनी है. इस सुनवाई पर भी सबकी नजर रहेगी.

 

एकनाथ शिंदे के खेमे में जाने वाले मंत्रियों में दादा भुसे, गुलाबराव पाटिल, संदीपन भुमरे, उदय सामंत, राज्य मंत्री शंभूराज देसाई, अब्दुल सत्तार, राजेंद्र पाटिल येद्रावकर, बच्चू कडू आदि शामिल हैं. चर्चा ये भी है कि शिवसेना के कई सांसद भी शिंदे के साथ हो सकते हैं. कहा जा रहा है कि 19 सांसदों में आठ से नौ शिंदे खेमे के संपर्क में हैं. जाहिर है जब पार्टी में टूट में होगी बड़ी संख्या में जिला स्तर के नेता भी शिंदे खेमे में जाएंगे ही.

 

इधर, भाजपा ने भी मौजूदा हालात के मददेनजर अपनी गतिविधियां बढ़ा दी है. रविवार पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के आवास पर भाजपा नेताओं की बैठक हुई. माना जा रहा है कि इस बैठक में अगली रणनीति पर चर्चा हुई है. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला को पत्र लिख कर जरूरत पड़ने पर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त संख्या में सीआरपीएफ जवानों को तैयार रखने को कहा है.

 

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसके साथ ही बयानबाजी का दौर भी जारी है आदित्य ठाकरे ने दावा किया कि एकनाथ शिंदे को 20 मई को ही मुख्यमंत्री बनने का ऑफर उद्धव ठाकरे की ओर से दिया गया था, इसके बाद भी उन्होंने बगावत की. शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि गुवाहाटी में बैठे 40 बागी विधायक जिंदा लाश की तरह हैं. वे वहां छटपटा रहे हैं. ये 40 लोग जब मुंबई आएंगे तब वे मन से जिंदा नहीं होंगे, उनकी आत्मा वहीं रह जाएगी. दूसरी ओर रविवार की रात एकनाथ शिंदे ने ट्वीट किया है कि बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना उन लोगों का समर्थन कैसे कर सकती है जिनका मुंबई बम विस्फोट के दोषियों, दाऊद इब्राहिम और मुंबई के निर्दोष लोगों की जान लेने के लिए जिम्मेदार लोगों से सीधा संबंध था. इसलिए उन्होंने यह कदम उठाया है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

Related Articles

Back to top button