न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही आस्था का महापर्व छठ संपन्न

हर ओर दिखी छठ की मनोरम छटा

34

Ranchi: आस्था का महापर्व छठ उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ बुधवार को संपन्न हुआ. राजधानी रांची के विभिन्न घाटों में भक्तों के बीच उत्साह देखा गया. सुबह चार बजे से ही व्रतियों की भीड़ घाटों में देखी गयी. वही उगते सूर्य को अर्घ्य 5:57 में दिया गया. इसके पूर्व मंगलवार को अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया गया.

इसे भी पढ़ेंःछठ महापर्व में अर्घ्य के दौरान हादसाः शख्स की परघाबाद तालाब में डूबने से मौत

 

राजधानी के अधिकांश तालाबों को छठ महापर्व को लेकर सजाया गया था. जिसमें मुख्य रूप से हटनिया तालाब, बड़ा तालाब, कांके डैम, धुर्वा डैम, नायक छठ तालाब, बनस तालाब, चडरी तालाब, तेतर टोली तालाब, जेल चौक तालाब आदि में विशेष सज्जा देखी गयी. इन तालाबों में छठ व्रतियों की भीड़ देखी गयी. इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने हटनिया तालाब में और मुख्यमंत्री रघुवर दास सूर्य मंदिर में अर्घ्य दिया.

मंदिरों में दिखी भारी भीड़

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही व्रतियों ने घाट में भगवान सूर्य के नाम से पूजा-अर्चना की. जिसके बाद घाट के आसपास स्थित मंदिरों में भक्तों की भीड़ देखी गयी. इधर शहर के छठ घाट जाने वाले मुख्य मार्गो में विशेष विद्युत सज्जा की गयी थी. काल्पनिक विद्युत सज्जा रात भर सड़कों में देखी गयी. इसके साथ ही गुब्बारें, फूल, टेंट समेत अन्य चीजों से भी सड़कों की सजावट की गयी थी.

इसे भी पढ़ेंः18 साल में 18 घोटालों से राज्य की छवि दागदार, कई गये सलाखों के…

silk_park

सुरक्षा के इंतजाम

पर्व के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना शहर में न हो इसके लिये जिला प्रशासन की ओर से हर घाट और चौक चैराहे के लिये एक हजार जवानों की तैनाती की गयी थी. हर तालाब में भक्तों को परेशानी न हो इसके लिये जवानों की ओर से लोगों को दिशा निर्देश दिये जा रहे थे. मंगलवार और बुधवार को शहर में भारी वाहनों के प्रवेष पर रोक लगा दी गयी. वहीं विभिन्न स्थानों पर बैरिकेडिंग की गयी थी. विशेष बैरिकेडिंग मुख्यमंत्री आवास के पास देखी गयी. इस दौरान नगर निगम की ओर से भी साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा गया.

इसे भी पढ़ेंःसरकार का दावा 2019 से 24 घंटे बिजली, पर कहां से आयेगी बिजली, पावर…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: