न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मध्य प्रदेश : खजाना खाली, किसानों का कर्ज माफ करना कांग्रेस के लिए टेढ़ी खीर

अगर मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो 10 दिन के अंदर किसानों का कर्ज माफ कर दिया जायेगा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी रैलियों में किसानों से यह वादा किया था.

729

 Bhopal : अगर मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो 10 दिन के अंदर किसानों का कर्ज माफ कर दिया जायेगा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी रैलियों में किसानों से यह वादा किया था. अब जो परिदृश़्य है, उससे लगता है कि मध्‍य प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान लोक लुभावन वादे कर सत्‍ता संभालने जा रही कांग्रेस का स्‍वागत खाली खजाने और भारी भरकम कर्ज से होगा. उधर, सचिवालय के अधिकारियों ने राज्‍य की आर्थिक सेहत से जुड़े आंकड़े तैयार करना शुरू कर दिया है ताकि अगले कुछ दिनों में उसे नये सीएम के सामने पेश किया जा सके.  मध्‍य प्रदेश की आर्थिक सेहत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि राज्‍य सरकार खजाना खाली होने की वजह से अपना लोन वापस चुकाने की समय सीमा में बदलाव कर रही है.  उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों के अनुसार राज्य का खजाना लगभग खाली है. अक्‍टूबर तथा दिसंबर में लिये गये लोन की तीन किश्‍तों को भी राज्‍य सरकार को अदा करना होगा. वित्‍त विभाग के आंकड़ों के अनुसार राज्‍य सरकार पर 1,60,871.9 करोड़ का कर्ज है. हालंकि सूत्रों के अनुसार यह वास्‍तविकता में 1,87,636.39 करोड़ है.  मध्‍य प्रदेश की निवर्तमान शिवराज सरकार ने संबल योजना के लिए ही लगभग 10 हजार करोड़ रुपये खर्च किये हैं.

कांग्रेस ने आर्थिक हालत को समझे बिना ही लंबे-लंबे चुनावी वादे किये

पूर्व वित्‍तमंत्री जयंत मलैया ने बताया कि चुनाव से ठीक पूर्व संबल योजना के तहत जनता का 5146 करोड़ रुपये का जनता बिजली बिल माफ किया गया. कहा कि कांग्रेस ने राज्‍य की आर्थिक हालत को समझे बिना ही लंबे-लंबे चुनावी वादे किये. उन्‍होंने इशारों ही इशारों में स्‍वीकार किया कि राज्‍य की आर्थिक हालत ठीक नहीं है.  हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार ने कड़े आर्थिक फैसले लिये और इसी वजह से राज्‍य रेवन्‍यू सरप्‍लस में रहा. इस क्रम में कांग्रेस प्रवक्‍ता भूपेंद्र गुप्‍ता ने कहा, भाजपा सरकार के कुशासन के कारण हमें खाली खजाना मिल सकता है.  हम किसानों की कर्जमाफी समेत सभी वादों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

41 लाख किसानों ने 56,377 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है

सूत्रों के अनुसार मध्‍य प्रदेश के 41 लाख किसानों ने 56,377 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है.  21 लाख ऐसे किसान हैं जिन्‍होंने 14,300 करोड़ रुपये का कर्ज लिया और अदा नहीं किया है.  यह कर्ज अब एनपीए बन चुका है.  इसमें वे किसान भी शामिल हैं जिन्‍होंने दो लाख रुपये से ज्‍यादा का लोन ले रखा है. मलैया कहते हैं कि भारतीय रिजर्व बैंक के कड़े दिशा-निर्देशों की वजह से राज्‍य सरकार एक हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा का लोन नहीं ले पायेगी.  सरकारी अधिसूचना के अनुसार सरकार ने पाचं अक्‍टूबर, 12 अक्‍टूबर और 9 नवंबर को क्रमश: 500 करोड़, 600 करोड़ और 800 करोड़ रुपये का लोन लिया था. चार दिसंबर को अंतिम बार पैसा लिया गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: