National

मध्य प्रदेश : कमलनाथ सीएम पद की रेस में सबसे आगे, दावा पेश किया, राज्यपाल ने कहा, पूरे नतीजे आने दीजिए

Bhopal :छिंदवाड़ा के सांसद और कांग्रेस के रणनीतिकार कमलनाथ को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाये जाने  की संभावना बल्वती है. बुधवार सुबह तक जारी मतगणना के बीच मंगलवार देर रात राज्य में राजनीति ड्रामेबाजी चलती रही. कांग्रेस ने राज्यपाल के समक्ष प्रदेश में सरकार बनाने का दावा पेश किया. इस पर राज्यपाल ने कांग्रेस से कहा है कि अभी पूरे नतीजे तो आने दीजिए. देर रात कांग्रेस ने एलान कर दिया था कि उसने प्रदेश में बहुमत के साथ जीत दर्ज की है. मध्य प्रदेश में कांग्रेस के तीन दिग्गज नेता कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह ने देर रात छोटी सी प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने बताया कि उन्होंने राज्यपाल को पत्र लिखा है कि उन्हें सरकार बनाने का न्योता दिया जाये, वे बहुमत साबित कर सकते हैं. भोपाल में पत्रकारों से बात करते हुए कमलनाथ ने कहा,मैं बेहद खुशी के साथ आपको बताना चाहता हूं कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने स्पष्ट बहुमत के साथ जीत हासिल की है.

71 साल के कमलनाथ का यह शायद मुख्यमंत्री बनने का आखिरी मौका है. वह राज्य से लंबे समय से सांसद रहे हैं. उन्होंने राज्य में जिस तरह से चुनाव प्रचार चलाया, उसके लिए उनकी तारीफ हो रही है. चुनाव के लिए उन्होंने पैसा भी खर्च किया है, जिसके बगैर भाजपा से आगे निकलना मुश्किल रहता.
राज्य में कांग्रेस को जैसी जीत मिली है, उस लिहाज से कमलनाथ मुख्यमंत्री पद के लिए बेहतर उम्मीदवार माने जा रहे हैं.

बुधवार सुबह तक 230 में से 112 सीटों पर जीत दर्ज की

बुधवार सुबह छह बजे तक चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार  मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने 230 में से 112 सीटों पर जीत दर्ज कर ली है और तीन सीटों पर आगे चल रही है. बता दें कि जिन सीटों पर कांग्रेस आगे चल रही है, उन पर भी वह जीत हासिल कर लेती है,  तो भी वह बहुमत से एक सीट पीछे रहेगी. ऐसे में कांग्रेस बसपा, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और निर्दलीय उम्मदीवारों से संपर्क में है.  इकनॉमिक टाइम्स के अनुसार कमलनाथ के समर्थकों ने बताया कि उन्हें प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस वादे के साथ बनाया था कि पार्टी की जीत हुए तो उन्हें सीएम बनाया जायेगा. बताया जाता है कि कमलनाथ को दिग्जविजय सिंह का भी समर्थन है. जानकारों के अनुसार मध्य प्रदेश में पार्टी को बहुत कम अंतर से जीत मिली है, इसलिए भी कमलनाथ का मुख्यमंत्री बनना तय हो गया है, क्योंकि वह सबको साथ लेकर चलने वाले नेता रहे हैं. वह समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी जैसे संभावित सहयोगियों के साथ तालमेल बनाने की क्षमता रखते हैं. इतना ही नहीं वह कांग्रेस को एकजुट रखने में भी सक्षम हैं.  सूत्रों के अनुसार सिंधिया को उप-मुख्यमंत्री बनाये जा सकते है.

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close