DeogharJharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

मधुपुर उपचुनाव : मतगणना से पूर्व चुनाव आयोग ने बदला रिटर्निंग अफसर

उद्योग विभाग के नीरज कुमार सिंह संभालेंगे रिटर्निंग अफसर का पदभार

Ranchi: भारतीय चुनाव आयोग ने मधुपूर उपचुनाव के लिये रिटर्निंग अफसर बदलने का आदेश दिया है. आयोग की ओर से इसके लिये उद्योग विभाग झारखंड सरकार में अंडर सेक्रेटरी नीरज कुमार सिंह को रिटर्निंग अफसर बनाने का आदेश दिया है. आयोग ने कहा है कि इसके साथ ही मधुपुर उप चुनाव के लिये नीरज कुमार सिंह ही सब डिविजनल अफसर होंगे. मालूम हो कि आयोग ने मधुपुर एसडीओ का भी तबादला कर दिया है. ऐसे में मतगणना कार्य इनकी देखरेख में किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःJharkhand सरकार ने दिये लॉकडाउन के संकेत, गहन चर्चा जारी

इस आदेश पर तत्काल प्रभाव से अमल करने को कहा गया है. साथ ही नीरज कुमार सिंह के कार्यभार संभालने की जानकारी आयोग को देने कहा गया है. बता दें मधुपुर उपचुनाव के लिये दो मई को मतगणना है. आदेश भारतीय निर्वाचन आयेाग के अंडर सेक्रेटरी राकेश कुमार की ओर से जारी किया गया है. जो राज्य मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के नाम जारी है.

 

उपचुनाव में धांधली की शिकायत

सांसद निशिकांत दुबे लगातार इस बात को उठाते रहे हैं कि मधुपुर उपचुनाव में सीएम जिला प्रशासन के साथ मिलकर चुनाव को प्रभावित करने में लगे रहे. जिला प्रशासन ने भी समुचित गंभीरता नहीं दिखायी. मतदान से पूर्व भी उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस करके डीसी तक को हटाने की मांग चुनाव आयोग से की थी. अब एसडीओ को हटाये जाने के बाद उन्होंने ट्वीट किया है कि सत्य की सदा जीत होती है. साफ सुथरा, निष्पक्ष और भयमुक्त चुनाव कराने की दिशा में आयोग के उठाये गये इस निर्णय के लिये वे आभारी हैं. उन्होंने चुनाव आयोग के इस फैसले का स्वागत किया है.

इसे भी पढ़ेंःबेकाबू कोरोनाः 24 घंटों में मृतकों की संख्या ने तमाम रिकार्ड तोड़े, जानें- कितनी मौतें हुईं और कितने मरीज मिले

गंगा नारायण और हफीजुल हसन के बीच है मुकाबला

मधुपुर उपचुनाव में कुल 6 उम्मीदवार मैदान में उतरे थे. इनमें से मुख्य मुकाबला मंत्री और झामुमो प्रत्याशी हफीजुल हसन अंसारी और भाजपा प्रत्याशी गंगा नारायण सिंह के बीच है. भाजपा ने चुनाव प्रचार के दौरान आरोप लगाया था कि डीसी झामुमो प्रत्याशी के तौर पर अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं. निशिकांत ने भी ऐसा ही आरोप जिला प्रशासन पर लगाया था. भाजपा ने तो बकायदा चुनाव आयोग के पास जिला प्रशासन की भूमिका को लेकर चुनाव आयोग (सीइओ, झारखंड) के पास लिखित शिकायत भी दर्ज करायी थी.

 

17 अप्रैल को हुआ चुनाव: मधुपुर उप चुनाव स्वर्गीय पूर्व मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के मौत के बाद हुई. पिछले एक साल से विधायक की मौत के बाद सीट खाली रहा. ऐसे में चुनाव आयोग ने चुनाव संपन्न कराया. सीट के लिये चुनाव 17 अप्रैल को हुआ. जिसमें लगभग तीन लाख 22 हजार मतदाताओं ने मतदान किया. आयोग की मानें तो चुनाव आयोग की ओर से इस सीट पर कुल 71.60 प्रतिशत वोटिंग हुई. बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच भी मधुपुर का मतगणना प्रतिशत बेहतर माना गया. अब इस सीट के लिये मतगणना दो मई को होना है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: