JharkhandRanchi

मधुपुर विधानसभा उप चुनावः तैयारियों में लगी सरकार, निर्वाचन आयोग ने की समीक्षा

देवघर जिला प्रशासन भी जुटा है चुनाव की तैयारी में

Ranchi : मधुपुर उप चुनाव को लेकर सरगर्मी बढ़ने लगी है. यहां के पूर्व विधायक और मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के असामयिक निधन के बाद यह सीट खाली है. ऐसे में वहां उपचुनाव कराया जाना संवैधानिक तौर पर अनिवार्य है. निर्वाचन आयोग ने राज्य सरकार के साथ मिलकर इस दिशा में कदम बढ़ा दिया है. निर्वाचन आयोग देवघर जिला प्रशासन के साथ मिलकर चुनावी तैयारियों में लग गया है.

स्वीप गतिविधियों पर जोर

13 फरवरी को सीइओ (मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी) के. रवि कुमार ने देवघर डीसी मंजूनाथ भजंत्री के साथ मधुपुर विधानसभा उप चुनाव के लिये शुरू की गयी तैयारियों को लेकर समीक्षा की थी. इस दौरान पुलिस महानिरीक्षक अखिलेश झा, संथाल परगना के उप महानिरीक्षक सुदर्शन मंडल सहित अन्य पदाधिकारी भी शामिल थे.

इस दौरान सीइओ ने स्वीप गतिविधियों पर विशेष रूप से ध्यान देने को कहा. साथ ही सभी कोषांगों के द्वारा किये जाने वाले विभिन्न कार्यों के संबंध में जानकारी ली थी. इनमें डिस्पैच सेंटर, रिसिविंग सेन्टर, काउंटिंग सेन्टर, रूट चार्ट, वाहन की उपलब्धता, मतदान केंद्र पर बुनियादी सुविधाओं, सामग्री, निविदा, पोस्टल बैलेट, पीडब्लूडी वोटर्स, स्ट्रांग रूम, आर्म्स डिपॉजिट, फोटो वोटर स्लिप डिस्ट्रीब्यूशन, पोस्टल बैलट से किया जाने वाला मतदान, सी-विजिल एप्प, वेबकास्टिंग, पीडब्ल्यूडी, महिला व युवा मतदाता, मतगणना केंद्र, स्वीप गतिविधि आदि से जुड़े कार्यों की प्रमुख रुप से विस्तृत समीक्षा की गयी.

इसे भी पढ़ें :राज्य में मनराखन विश्वविद्यालय समेत चार नये निजी विवि खुलेंगे

बूथ टैगिंग का काम पूरा

डीसी के मुताबिक उप चुनाव को लेकर बनाये गये विभिन्न कोषांगों के कार्यों की लगातार समीक्षा की जा रही है. फिलहाल सेक्टर ऑफिसर डिप्लॉयमेंट, बूथ टैगिंग और बूथों के भौतिक सत्यापन का काम पूरा कर लिया गया है. जल्द हीं चुनाव में प्रतिनियुक्त अधिकारियों, पुलिस पदाधिकारियों, कर्मियों को प्रशिक्षण देने का काम भी शुरू कर दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें :मुक्ति संस्था ने जुमार नदी के तट पर 37 अज्ञात लावारिस शवों का किया अंतिम संस्कार

कौन-कौन हैं रेस में

गौरतलब है कि हाजी हुसैन अंसारी के निधन के बाद उनके बेटे हफीज उल अंसारी को राज्य सरकार ने कुछ दिन पहले मंत्री बना दिया है. चूंकि उनके पास विधान सभा की सदस्यता नहीं है, ऐसे में पूरी संभावना है कि अंसारी मधुपुर सीट से ही उपचुनाव लड़ेंगे. इसके अलावा भाजपा भी यहां से अपना कैंडिडेट उतारेगी. संभावना है कि पूर्व विधायक और मंत्री राज पालिवार को फिर से टिकट मिले. हालांकि अभी पार्टी ने इस पर अंतिम फैसला नहीं लिया है. इन दोनों के अलावा अन्य दलों से और निर्दलीय भी अपना भाग्य आजमाने की फिराक में हैं.

Advt

Related Articles

Back to top button