BokaroJharkhandRanchi

#Governor से मिले माधवलाल सिंह, भरोसा मिला,  ग्रामीणों की इच्छा के विरुद्ध नगर परिषद नहीं बनेगी

Ranchi :  राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने पूर्व विधायक माधवलाल सिंह को भरोसा दिलाया  है कि यदि पंचायत की जनता नहीं चाहती है तो नगर परिषद नहीं बनेगी.  बुधवार को पूर्व विधायक ने राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को राजभवन में एक पत्र देते हुए आग्रह किया  कि गोमिया की नवगठित नगर परिषद में हजारी पंचायत की आम जनता नहीं चाहती कि उन्हें नगर परिषद में शामिल किया जाये.

पत्र में कहा गया है कि हजारी पंचायत की जनसंख्या लगभग साढ़े सात हजार है, जिसमें मात्र 89 लोग ही सरकारी नौकरी में कार्यरत हैं. एक बड़ी आबादी है, जो दैनिक मजदूरी कर अपना जीवन यापन करती है. नगर परिषद बन जाने से ग्रामीण, शहरी मापदंड के अनुसार विभिन्न प्रकार के टैक्स एवं अनावश्यक खर्च वहन करने में असफल रहेंगे. इसलिए वे चाहते हैं कि उन्हें अभी पंचायत राज के अधीन रखते हुए वहां विकास कार्य किया जाये.

इसे भी पढ़ें :  बिखरा विपक्ष, पांच विधायक, एक आइएएस, दो आइपीएस समेत कई #BJP में शामिल

जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों को नहीं मिलती विकास के लिए राशि

पूर्व विधायक माधवलाल सिंह ने राज्यपाल को जानकारी दी कि जिला परिषद सदस्य एवं पंचायत समिति सदस्यों को विकास के नाम पर एक भी रुपए नहीं मिलता. उन्होंने कहा कि झारखंड राज्य में निर्वाचित होकर जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्य, पंचायत एवं मुखिया आते हैं. इनमें  से सिर्फ मुखिया को ही विकास के लिए निधि आवंटित की जाती है. जिला परिषद सदस्य एवं पंचायत समिति सदस्य निर्वाचित होकर आते हैं, लेकिन उन्हें एक भी पैसा आवंटित नहीं किया जाता.

उन्होंने बताया कि 2009-10 में विधानसभा में प्रश्न एवं ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के माध्यम से और विधानसभा में धरना देने के बाद सरकार द्वारा आश्वासन दिया गया था कि मुखिया को 60% , जिला परिषद को 20% और पंचायत समिति सदस्य को 20% विकास के लिए निधि मिलेगी.  पर आज  तक राशि नहीं मिल सकी है.

इसे भी पढ़ें : सूदखोरों के चंगुल से किसानों को सुरक्षित करने के लिए ही कृषि आशीर्वाद योजना को लागू किया गयाः रघुवर दास

आंगनबाड़ी तथा पारा टीचर को समान काम के बदले समान वेतन मिले

माधव लाल सिंह ने राज्यपाल  को वृद्धा एवं विधवा पेंशन की समस्या से भी अवगत कराया.  बताया कि झारखंड में लगभग 84 हजार आंगनबाड़ी कर्मचारियों के मानदेय में बढ़ोतरी एवं पारा शिक्षक के स्थायीकरण के संबंध में भी पत्र दिया है. राज्यपाल ने पूर्व विधायक की बात सुनने के बाद उन्हें भरोसा दिलाया कि हजारी पंचायत की जनता को नगर परिषद में कोई भी जबरन शामिल नहीं कर सकता.

उन्होंने पेंशन, आंगनबाड़ी तथा पारा टीचर के संबंध में कहा कि समान काम के बदले समान वेतन मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि संबंधित विभाग को इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही हेतु पत्र प्रेषित किया जायेगा.

इस अवसर पर पूर्व विधायक के साथ जिप सदस्य गुलशरीफ, पंसस जगदीश स्वर्णकार, मुखिया संघ के अध्यक्ष अजय सिंह,  मुखिया राम लखन प्रसाद, प्रोफेसर धनंजय सिंह, महादेव महतो,  शेखर प्रजापति, आकाश, अंकुश भंडारी ने संयुक्त रूप से द्रोपदी मुर्मू का शॉल ओढ़ाकर अभिवादन किया.

इसे भी पढ़ें :  #Dhanbad : बिनोद बिहारी महतो की प्रतिमा स्थापित करने के बाद जलेश्वर महतो ने कहा – ढुल्लू महतो ने युवाओं को किया बेरोजगार

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: