न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मेकॉन ने काम करा कर एजेंसी को नहीं दिये 1.50 करोड़ रुपये

ओट्टो प्रोजेक्ट्स को छह वर्ष से नहीं मिला 1.85 करोड़

225

Ranchi: मेकॉन लिमिटेड ने राउरकेला इस्पात संयंत्र में सीओबी-6 का काम करा कर ओट्टो प्रोजेक्ट्स कंपनी का 1.85 करोड़ का भुगतान रोक रखा है. अप्रैल 2013 से 18 करोड़ के कार्यादेश का बकाया लंबित है. जानकारी के अनुसार ओट्टो प्रोजेक्टस को मेकॉन लिमिटेड ने राउरकेला इस्पात संयंत्र में सीओबी-6 के सिविल वर्क का काम दिया था. अप्रैल 2013 में यह काम पूरा किया गया. बावजूद इसके मेकॉन की तरफ से कंपनी का रीटेंशन शुल्क, एस्कालेशन कॉस्ट (बढ़ी हुई दर) और रोकी गयी राशि का भुगतान नहीं किया गया. थाईसेन क्रूप से जुड़ी ओट्टो प्रोजेक्ट्स भारतीय इस्पात संयंत्र के निर्माण के क्षेत्र में चार दशकों से काम कर रही है. मेकॉन लिमिटेड की तरफ से भुगतान नहीं किये जाने से कंपनी की परेशानी बढ़ने लगी है.

इसे भी पढ़ें – गिरिराज सिंह ने नीतीश कुमार से की मुलाकात, शुक्रवार को जायेंगे बेगूसराय

कंपनी के सीएमडी का आदेश भी नहीं माना गया

hosp3

मेकॉन लिमिटेड के सीएमडी का आदेश भी वरीय अधिकारी नहीं मान रहे हैं. अप्रैल 2017 में कंपनी के सीएमडी ने निदेशक व्यावसायिक को ओट्टो प्रोजेक्टस के बकाये का भुगतान का आदेश दिया था. कंपनी के अधिकारी अप्रैल 2013 से लगातार मेकॉन मुख्यालय आते रहे हैं. पर अब तक मामले को सुलझाया नहीं गया. निदेशक (व्यावसायिक) की तरफ से एकमात्र जवाब यही दिया जाता रहा है कि कार्यादेश पूरा होने में अनावश्यक विलंब होने से पेनाल्टी की गयी है. इसलिए लॉस डैमरेज (एलडी) की राशि जब्त कर रखी गयी है.

इसे भी पढ़ें – कड़िया मुंडा से आशीर्वाद लेकर अर्जुन मुंडा ने शुरू किया चुनाव प्रचार अभियान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: