न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लखनऊ शूटआउट : CM से मिली विवेक की पत्नी, कहा- मैं मुख्यमंत्री की आभारी हूं

मुझे राज्य सरकार पर भरोसा है.

103

Lucknow : लखनऊ के गोमतीनगर इलाके में पुलिस के एक सिपाही की गोली लगने से मारे गए एप्पल कंपनी के एक प्रबंधक विवेक तिवारी के परिवार ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के बाद कहा कि उन्हें राज्य सरकार पर पूरा भरोसा है.

तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी ने मुख्यमंत्री योगी से मिलने के बाद कहा कि मैं मुख्यमंत्री से मिलना चाहती थी. मैंने पहले भी कहा था कि मुझे राज्य सरकार पर भरोसा है. मेरा वह भरोसा आज और बढ़ गया. जो नहीं होना चाहिए था, कैसे हो गया. वर्तमान परिस्थितियों में मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था. लेकिन मुझे मुख्यमंत्री से मिलने के बाद कुछ ढांढस बंधा है कि जो जिम्मेदारियां मेरे पति मेरे ऊपर छोड़कर गए हैं. शायद मैं उन्हें पूरा कर पाऊंगी. इसके लिए मैं मुख्यमंत्री की आभारी हूं.

उन्होंने कहा, मेरी सभी मांगें पूरी हो गयी हैं. मैं दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के अलावा नौकरी, घर और मेरी बच्चियों की पढ़ाई के लिए व्यवस्था तथा मेरी सास की देखभाल के लिये व्यवस्था चाहती हूं. मुख्यमंत्री ने मेरी सभी मांगे पूरी कर दी हैं.

इसे भी पढ़ें : पुलिस की गोली का शिकार हुए विवेक की अंत्येष्टि, फास्ट ट्रैक अदालत में सुनवाई की कोशिश करेगी सरकार

परिवार की गयी कार्रवाई से संतुष्ट है : उप मुख्यमंत्री

उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने तिवारी के परिवार के मुख्यमंत्री से मिलने के बाद बताया कि तिवारी का परिवार की गयी कार्रवाई से संतुष्ट है. हम पीड़ित परिवार की हर संभव मदद करेंगे, जिसमें उनकी पत्नी कल्पना को उनकी शिक्षा के अनुरूप नौकरी, 25 लाख रूपये की आर्थिक सहायता, दोनों बेटियों के नाम से पांच..पांच लाख रूपये की एफडी तथा पांच लाख रूपये की एफडी विवेक की मां के नाम से करने की संस्तुति मुख्यमंत्री योगी ने दी है.

इसे भी पढ़ें ः लखनऊ शूटआउटः सोशल मीडिया पर पोस्टर वायरल, ‘पुलिस वाले अंकल, प्लीज गोली मत मारियेगा’

palamu_12

शर्मा ने कहा कि मैं पीड़ित परिवार के संपर्क में था. मैं इन्हें पहले से जानता था, रविवार को जब मैं लखनऊ आया तो परिवार वालों से मिला. तिवारी का परिवार भारतीय जनता पार्टी से जुड़ा रहा है और वह इस मामले में किसी भी तरह की राजनीति नहीं चाहते हैं.

जाने क्या है मामला

गौरतलब है कि एक कंपनी में कार्यरत विवेक तिवारी (38) की मौत 29 सितंबर की रात को कार्यालय से घर लौटते समय पुलिस की गोली लगने से हो गयी थी. उत्तर प्रदेश पुलिस के अनुसार सिपाही प्रशांत चौधरी ने उन्हें कार रोकने को कहा. कार नहीं रोकने पर कथित रूप से प्रशांत ने विवेक पर गोली चला दी. गंभीर रूप से घायल विवेक की इलाज के दौरान मौत हो गई. पोस्टमॉर्टम में उनके सिर में गोली मिली थी. इस मामले में दोनों आरोपी सिपाही प्रशांत और संदीप को बर्खास्त कर दिया गया है. दोनों को गिरफ्तारी करने के बाद शनिवार को ही जेल भेज दिया गया था.

इसे भी पढ़ें : लखनऊ में एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर की हत्या पर केजरीवाल का ट्वीट, हिंदू था फिर…

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: