न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लखनऊ शूटआउटः पुलिस के प्रोटेस्ट से नाराज सीएम योगी, तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड

तीन थाना अध्यक्षों का तबादला, नई सोशल मीडिया पॉलिसी जारी

182

Lucknow: लखनऊ में कुछ दिन पहले हुए विवेक तिवारी हत्याकांड के मुख्य आरोपी पुलिसकर्मी प्रशांत चौधरी की गिरफ्तारी और बर्खास्तगी के विरोध में पुलिसकर्मियों ने प्रदर्शन किया. प्रशांत चौधरी पर कार्रवाई का विरोध करते हुए 5 अक्टूबर को काला दिवस मनाया और काला बिल्ला लगा विरोध दर्ज कराया.

इसे भी पढ़ेंःनरेंद्र सिंह होरा की हत्या के विरोध में सिख समुदाय के लोगों ने सुजाता चौक किया जाम

यूपी पुलिस की इस हरकत से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खासे नाराज हैं. सीएम ने पुलिस के आला अफसरों को जमकर फटकार भी लगाई है. इतना ही नहीं, पुलिस महकमे में उठ रहे इस बगावती सुर को दबाने के लिए तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है, जबकि तीन थाना अध्यक्षों का ट्रांसफर कर दिया गया. विरोध करने वाले दो पूर्व पुलिसकर्मियों को भी गिरफ्तार किया गया है.

इसे भी पढ़ेंःसीएम चाचा रोज ही लुटती है हमारी इज्जत, कभी मालिक तो कभी साहेब रात में नोचते हैं, बचाइए ना हमें

किन-किन पुलिसकर्मियों पर हुई कार्रवाई

सस्पेंड होने वाले तीन पुलिसकर्मियों में लखनऊ के अलीगंज थाने में तैनात सिपाही जितेंद्र कुमार वर्मा, गुडंबा थाने के सिपाही सुमित कुमार और नाका थाने में तैनात सिपाही गौरव चौधरी शामिल हैं. वही तीन थानों के इंचार्ज का तबादला किया गया है, जिनमें लखनऊ के ही नाका थाने के एसओ परशुराम सिंह, एसओ अलीगंज अजय यादव और एसओ गुडंबा धर्मेश शाही शामिल हैं. जबकि पूर्व पुलिसकर्मी अविनाश पाठक और ब्रजेंद्र यादव को गिरफ्तार किया गया हैं.

सीएम ने लगाई फटकार

पुलिस के बगावती सुर के बीच योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार, डीजीपी ओपी सिंह और मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडे को बुलाकर अपनी नाराजगी जताई. मुख्यमंत्री ने आला अफसरों को फटकार लगाते हुए कहा कि ये सब उच्च स्तर पर की गई लापरवाही का नतीजा है, इसलिए पुलिसकर्मी इतना मुखर होकर के विरोध पर उतर आए हैं. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर इस पर रोक नहीं लगाई गई तो इसका खामियाजा अधिकारियों को भी भुगतना होगा.

इसे भी पढ़ें- बीजेपी सांसद रविंद्र राय ने जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी पर ठोका 10 करोड़ का मानहानि का दावा

नई सोशल मीडिया पॉलिसी

इधर मुख्यमंत्री की नाराजगी के बाद आनन-फानन में पुलिस विभाग की तरफ से पुलिस कर्मियों के लिए नई सोशल मीडिया पॉलिसी बना दी गई. नई पॉलिसी के तहत, अब पुलिस कर्मी सोशल मीडिया पर पुलिस का लोगो, वर्दी, या उससे जुड़ी अन्य चीजें और हथियार के साथ फोटो पोस्ट नहीं शेयर कर सकते. अगर वर्दी के साथ कोई फोटो पोस्ट की भी जाती है तो किसी तरीके की अव्यवस्था नहीं होनी चाहिए. ना ही कोई आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं होनी चाहिए. अब पुलिसकर्मियों को सोशल मीडिया पर कोई टिप्पणी करने के साथ यह भी लिखना होगा यह उनकी निजी राय है.

उल्लेखनीय है कि पुलिस अधिकारियों ने यह सारी गाइडलाइंस लखनऊ में पुलिस की गोली का शिकार हुए विवेक तिवारी की हत्या के बाद पुलिस महकमे में उठ रहे विरोध और सोशल मीडिया पर चल रहे कैंपेन के बाद जारी की हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: