National

Lucknow : टैक्स नहीं जमा करने पर पुरातत्व भवन के रूप में रजिस्टर्ड आनंद भवन को 4.35 करोड़ का नोटिस

विज्ञापन

Lucknow : प्रयागराज नगर निगम ने प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के पैतृक आवास आनंद भवन को गृह कर जमा नहीं करने पर नोटिस दिया है. प्रयागराज की महापौर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने बुधवार को बताया, ‘चार करोड़ 35 लाख रुपये का गृह कर जमा करने का नोटिस आनंद भवन को भेजा गया है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह एक पुरातत्व भवन के रूप में पंजीकृत है और इसका कर जमा नहीं किया गया है. आनंद भवन के अधिकारियों ने यह भी दावा किया कि इस भवन को पुरातत्व भवन के रूप में सरकार को सौंपा जा चुका है.  इस बारे में उनसे कागज मांगे गये, लेकिन वे कागज भी उपलब्ध नहीं करा सके.’

advt

इसे भी पढ़ेंः #Jharkhand में 10 हजार आदिवासियों पर लगा राजद्रोह कानून, लेकिन देश की अंतरात्मा नहीं हिली: राहुल

उन्होंने बताया कि आनंद भवन के अधिकारी कर में रियायत चाह रहे थे. लेकिन जब उनसे पूछा गया कि वह किस आधार पर रियायत चाहते हैं तो वह इसका जवाब नहीं दे सके. वहां के अधिकारी कहते हैं कि यह भवन व्यावसायिक नहीं है.

लेकिन जब इंदिरा गांधी की जयंती मनायी जाती है तो आने वालो लोगों से पचास रूपये का टिकट लिया जाता है. इसके अलावा संग्राहलय का टिकट भी लिया जाता है. अगर आपने भवन को सरकार को पुरातत्व के तौर पर सौंप दिया है तो फिर इस पर सरकार का नियंत्रण होना चाहिए.

adv

इसे भी पढ़ेंः #PMC के खाताधारकों ने बैंक में जमा राशि को वापस करने की मांग के साथ #RBI के बाहर किया प्रदर्शन

महापौर ने कांग्रेस का नाम लिये बिना कहा, ‘आपका अभी भी भवन पर पूरी तरह से कब्जा है, आपके ही ताले हैं. जब सोनिया जी या गांधी परिवार का कोई शख्स आता है तो ताले तुरंत खुल जाते हैं.’

उन्होंने बताया कि नोटिस सात से 10 दिन पहले भेजा गया था. 1990 तक वे 600 रूपये टैक्स देते थे, लेकिन 1990 के बाद से वह भी नहीं दिया गया है.

इसे भी पढ़ेंः महाराष्ट्र के महापौर चुनाव में भी दिख सकता है शिवसेना और भाजपा का टकराव

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close