न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

कभी भी हो सकता बड़ा हादसा, शहर के बीचों बीच है एलपीजी गैस गोदाम

भीड़भाड़ वाले रिहायशी ईलाकों में गैस के गोदाम दे रहे हादसों को दावत

573

Ranchi: रांची शहर के घनी आबादी के बीचों बीच एलपीजी गैस का गोदाम खतरा बना हुआ है . सुरक्षा मानकों की अनदेखी करते हुए ऐसे गोदामों को शहर से बाहर ले जाने के प्रति जिला प्रशासन भी कोई कार्रवाई नहीं करती है . ऐसे में हमेशा अनहोनी का खतरा बना रहता है.

eidbanner

इसे भी पढ़ेंः गुमला के सिसई प्रखंड में मनरेगा योजना के नाम पर हो रही पैसों की बंदरबांट

नहीं होता है नियम का पालन

रांची शहर में अधिकतर एलपीजी गैस एजेंसी का गोदाम घनी आबादी के बीच स्थित है पिस्का मोड , कांके रोड, बरियातू , कोकर , चेशायर होम रोड, हरमू, जैसे इलाकों में एलपीजी गैस एजेंसी का गोदाम बना हुआ है . नियम के अनुसार गैस गोदाम को शहर के बहार बनाना होता है लेकिन यहां शहर के घनी आबादी के बीच गोदाम बना हुआ है .

हो रही है अनदेखी

कई जगह गैस गोदाम के कुछ ही दूरी पर मिठाई की दुकान का चूल्हा जलता है तो कहीं वेल्डिंग होता है. गोदाम में अगर जगह नहीं होता है तो सिलिंडर से भरा ट्रक लगा कर रोड पर ही सिलिंडर बांटा जाता है. कुछ गोदाम ऐसे गली में है जहां दमकल भी नहीं पहुंच सकता है आसानी से और ट्रैफिक जाम रहने पर और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है .

रिहायशी इलाकों में ट्रक लगा के करते गैस का वितरण

शहर के कई रिहायशी इलाकों में ट्रक लगाकर ग्राहक के बीच गैस का वितरण किया जाता है . नियम के अनुसार गैस का वितरण गोदाम से होना चाहिए जिसका पालन गैस एजेंसियां नहीं करती है

इसे भी पढ़ें- बीजेपी सांसदों ने केंद्रीय ऊर्जा मंत्री से कहा : झारखंड में नहीं मिलती 10 घंटे भी बिजली, केंद्रीय मंत्री ने कहा- CM से करूंगा बात

शहर के बीचों बीच है एलपीजी गैस गोदाम
शहर के बीचों बीच है एलपीजी गैस गोदाम

क्या कहते है गैस एजेंसी के संचालक

रांची गैस एजेंसी पिस्का मोड

जिस समय यहां गोदाम बनाया गया था यहां का पूरा इलाका खाली था . अब यहां पर लोगों ने घर बना लिया है . सरकार से मांग करते है हमे दूसरे जगह जमीन दे हम वहीं गोदाम शिफ्ट कर लेंगे

देवी गैस एजेंसी कांके रोड

गैस एजेंसी का गोदाम शहर के बीच में है लेकिन कंपनी के नियम के अनुसार चल रहा है .कंपनियों द्वारा समय- समय पर सुरक्षा की जांच की जाती है.

अदिति गैस एजेंसी कोकर

जिस समय गैस गोदाम बना था , यहां पर आबादी नहीं थे सरकार को तय कहना चाहते था गैस गोदाम के पास मकान निर्माण का नक्शा पास नहीं करें.

एसके गैस एजेंसी चेशायर होम रोड

गैस गोदाम का सुरक्षा मानक तय नियम के अनुसार किया जा रहा है . सरकार हमलोग को जमीन देती है तो गोदाम वहीं बनवा लेंगे.

झलक गैस एजेंसी डोरंडा

समय- समय पर सुरक्षा की जांच की जाती है और सुरक्षा के सभी मानकों का ध्यान रखा जाता है .

आर के गैस एजेंसी कचहरी रोड

कंपनियों द्वारा सुरक्षा की जांच की जाती है और सुरक्षा के सभी मानकों का अच्छी तरह ध्यान रखा जाता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: