NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एकांतवास से लौटे भगवान जगन्नाथ, रथयात्रा आज

श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़, शाम चार बजे के बाद शुरु होगी रथयात्रा

558
mbbs_add

Ranchi: भगवान जगन्नाथ को विष्णु का 10वां अवतार माना जाता है, जो 16 कलाओं से परिपूर्ण हैं. पुराणों में जगन्नाथ धाम की काफी महिमा है, इसे धरती का बैकुंठ भी कहा गया है. पुरी से शुरु हुई भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा आज देश के कई हिस्सों में निकाली जाती है. वही बात करें रांची की तो रांची के जगन्नाथ मंदिर और रथ यात्रा का इतिहास करीब 325 साल पुराना है. तब से यहां हर साल दस दिनों का रथ मेला लगता है. वही शनिवार को रथ यात्रा को लेकर सारी तैयारी कर ली गई है.

इसे भी पढ़ेंः जीवन वेद : नैतिकता सामंजस्यपूर्ण जीवन बिताने का प्रयत्न

Hair_club

एक पखवारे तक गर्भगृह में रहने के बाद शुक्रवार को भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा व भाई बलराम के विग्रह का नेत्रदान किया गया. वही शनिवार को विशेष पूजा अर्चना के बाद सुबह पांच बजे से मंदिर को आम लोगों के लिए खोल दिया गया है. दोपहर के करीब दो बजे से दर्शन बंद कर दिये जायेंगे. उसके बाद रथयात्रा की तैयारी शुरु होगी. करीब ढाई बजे भगवान जगन्नाथ, भाई बलराम और बहन सुभद्रा का रथारोहण होगा. उसके बाद विष्णुलाक्षार्चना होगी. शाम चार बजे भगवान जगन्नाथ की आरती होगी, जिसके बाद रथयात्रा शुरु की जायेगी. और रथ पर सवार होकर भगवान जगन्नाथ अपनी मौसी के घर जायेंगे. शाम 6 बजे तक रथ मौसीबाड़ी पहुंचेगा. सात बजे शाम तक दर्शन-पूजन किया जा सकेगा. उसके बाद देवविग्रहों को मौसीबाड़ी में प्रवेश कराया जायेगा. बता दें कि 23 जुलाई को घुरती रथ यात्रा के साथ भगवान जगन्नाथ मुख्य मंदिर लौट आएंगे.

रथ मेला की विशेष तैयारी

14 जुलाई 2018 से 23 जुलाई 2018 तक लगने वाले ऐतिहासिक जगन्नाथपुर रथ मेला को लेकर विशेष तैयारी की गई है. सुरक्षा के जहां व्यापक इंतजाम किये गये हैं. वही छह जगहों पर पार्किंग की व्यवस्था की गई है. मेला परिसर में हर दिन कलाकारों द्वारा रंगारंग सांस्कृति कार्यक्रम, नुक्कड़-नाटक, कठपुतली नृत्य, छऊ, पाईका, उरांव, नागपुरी लोकगीतों की प्रस्तुतियां दी जायेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

nilaai_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

bablu_singh

Comments are closed.