न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गरीब व असहाय के लिए वरदान बन रहा लोहरदगा नगर परिषद का आश्रय गृह

52

Lohardaga: कहते हैं जिसका कोई नहीं होता, उसका ऊपर वाला होता है. लोहरदगा में गरीब और असहाय लोगों के लिए नगर परिषद की एक छोटी सी पहल वरदान साबित हो रही है. शहरी क्षेत्र के रेलवे साइडिंग बस पड़ाव में बनाया गया यात्री सेड असहाय और गरीब लोगों के लिए ईश्‍वर का आशीर्वाद के समान है. यहां पर ऐसे लोगों को आसरा मिल रहा है, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं. नगर परिषद की यह छोटी सी पहल सचमुच समाज और दुनिया के लिए एक संदेश दे रही है.

इसे भी पढ़ेंःशाह ब्रदर्स खनन घोटालाः AG,DMO,विभागीय मंत्री पर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग को लेकर ACB पहुंची कांग्रेस

आश्रय गृह में बिस्‍तर, शौचालय जैसी सभी सुविधायें

सरकारी पैसे का सही उपयोग हो तो ऐसे जरूरतमंदों के लिए जिंदगी की नयी उम्‍मीद बन जाती है. इसके लिए नगर परिषद में बस पड़ाव में बनाए गए यात्री सेड को आश्रय गृह का रूप दिया गया है. यहां पर आने वाले लोगों के लिए यहां सभी तरह की बुनियादी सुविधायें मुहैया करायी गयी है. यहां लोगों के लिए साफ-सुथरा बिस्‍तर, शौचालय, पीने का साफ पानी का समुचित इंतजाम है. खास बात यह है कि यहां नजदीक में ही 5 रुपए में भोजन की व्यवस्था भी उपलब्ध है.

इसे भी पढ़ेंःपारा टीचर लाठीचार्जः BJP MLA ने कहा- ऊपर से थोप दिए जाते हैं CM, MP ने कहा- सरकार के लिए अच्छा नहीं

दिव्‍यांग तेतरी को परिवार ने ठुकराया तो मिला आश्रय गृह में पनाह

इस आश्रय गृह में पिछले एक साल से सदर प्रखंड के बकरनी गांव निवासी अपने परिवार की बेरुखी की शिकार तेतरी उरांव भी रह रही है. उन्‍हें आश्रय गृह में पनाह मिला हुआ है. यहां रह कर तेतरी अपनी जिंदगी के बाकी दिन काट रही हैं. वह पैरों से दिव्यांग हैं. परिवार वालों ने उसे घर से निकाल दिया. पर यह आश्रय गृह उसके लिए घर बन गया है. यहां रहने का उसे कोई पैसा नहीं देना होता है.

हर जरूरतमंद को दी जाती है आश्रय गृह में पनाह

नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी गंगा राम ठाकुर कहते हैं कि हमने तो बस छोटी सी एक पहल की है. यहां पर यात्रियों को भी सुविधा मिलती है. साथ ही यहां ऐसे लोगों को पनाह दी जाती है जिन्हें कहीं ठहरने-रहने के लिए जगह नहीं है. जल्द ही एक नये आश्रय गृह  का भी निर्माण होने जा रहा है. आश्रय गृह के केयरटेकर कुलदीप तिर्की कहते हैं कि यहां पर रहने वाले को किसी प्रकार का पैसा नहीं देना पड़ता है. जो भी सुविधाएं हैं सब उनके लिए ही है. बहरहाल सरकार और नगर परिषद की एक छोटी सी पहल गरीब और परेशान लोगों को काफी राहत प्रदान कर रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: