न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मनरेगा में लूट जारी, सोशल ऑडिट में पकड़े गये जेई और पंचायत सेवक

आठ माह बाद भी राशि की रिकवरी नहीं, नहीं हुई कोई कार्रवाई

3,446

Ranchi : मनरेगा में लूट का सिलसिला जारी है. रांची के राहे प्रखंड में मनरेगा में वित्तीय अनियमितता का एक और मामला सामने आया है. इसमें योजना के कार्यान्वयन में भारी अनियमितता बरती गयी है. सोशल ऑडिट रिपोर्ट के अनुसार जूनियर इंजीनियर भुवन दास और पंचायत सेवक जगन्नाथ मुंडा ने भारी वित्तीय अनियमितता की है. इस मामले की जांच लोकपाल मनरेगा और रांची के सहायक अभियंता (डीआरडीए) ने जांच की. इसमें पाया गया कि 2,54,000 रुपये की योजना प्राक्कलन राशि से अधिक की निकासी कर गबन कर लिया गया.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- राशन की कालाबाजारी रोकने गये मानवाधिकार कार्यकर्ता को मिली जान से मारने की धमकी

क्या है पूरा मामला

राहे प्रखंड अंतर्गत दुकान पंचायत में कमला देवी का तालाब निर्माण के तहत टिकरा से बिंदेश्वर के घर तक 800 मीटर खरंजा निर्माण किया जाना था. इसके अलावा घासी महतो का तालाब निर्माण करना था. सोशल ऑडिट रिपोर्ट के मुताबिक, इस काम में वास्तविक मूल्य से अधिक राशि की निकासी जेई भुवन दास द्वारा कर ली गयी. राहे प्रखंड अंतर्गत पंचायत में पूर्णचंद के घर से बेतिया पीपल पेड़ तक खरंजा निर्माण योजना में काम कराये बिना 1,82,000 रुपये की अवैध निकासी की गयी. चैनपुर गांव के पीपल पेड़ से श्मशान घाट तक 2000 फीट ईंट के खरंजा पथ निर्माण में 72 हजार रुपये की अवैध निकासी की गयी. इसमें पंचायत सेवक जगन्नाथ मुंडा और जेई भुवन दास दोषी पाये गये. इसके खिलाफ प्रपत्र क गठित किया जा चुका है.

इसे भी पढ़ें- मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए हिंदी में आवेदन नहीं लेता RMC, यह राष्ट्रभाषा का अपमान है, हिंदी में भी लें…

अब तक नहीं हुई पूरी राशि की रिकवरी

राहे बीडीओ रवि ने बताया कि अब तक पूरी राशि की रिकवरी नहीं की जा सकी है. दोषियों पर सर्टिफिकेट केस किया गया है. वहीं, तत्कालीन बीपीओ का भी तबादला कर दिया गया है. इस पूरे मामले की जानकारी रांची जिला पंचायती राज पदाधिकारी को भी है, लेकिन अब तक राशि की रिकवरी नहीं होना बताता है कि मनरेगा योजना में हो रहे भ्रष्टाचार पर रोक लगाने को लेकर कोई वरीय अधिकारी संजीदा नहीं दिख रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: