न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#London: अदालत ने नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज की, खबरें लीक होने को लेकर चेताया

254

London: ब्रिटेन की अदालत ने भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की नयी जमानत याचिका बुधवार को खारिज कर दी. इससे नीरव मोदी को तगड़ा झटका लगा है.

नीरव ने मुचलके के तौर पर 40 लाख पाउंड की भारी धनराशि का भुगतान करने के साथ ही संदिग्ध आतंकवादियों के समान निगरानी में रखे जाने की पेशकश की थी, लेकिन अदालत ने उसकी दलील को अनसुना कर दिया.

नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से जुड़े दो अरब डॉलर के धोखाधड़ी और धनशोधन मामले में भारत को प्रत्यर्पित किये जाने के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें – गृह मंत्री के रूप में अमित शाह की यह बड़ी विफलता है

hotlips top

जमानत की चौथी कोशिश भी नाकाम

जमानत के लिए चौथी कोशिश के तहत नीरव ने वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में न्यायाधीश एम्मा अर्बथनॉट के सामने याचिका दी.

इसी अदालत में पिछली पेशी की तुलना में नीरव इस बार तंदुरुस्त लग रहा था. उसने सफेद रंग की कमीज और नीले रंग का स्वेटर पहन रखा था.

30 may to 1 june

सुनवाई के बाद वापस उसे वैंड्सवर्थ जेल भेज दिया गया. अब चार दिसंबर को वीडियो लिंक के जरिए इसी अदालत में उसकी पेशी होगी.

न्यायाधीश एम्मा अर्बथनॉट ने कहा कि ‘‘अतीत से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भविष्य में क्या हो सकता है.’’ न्यायाधीश ने कहा कि वह अब भी नहीं मानती हैं कि वह सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करेगा और मई 2020 में मुकदमे के दौरान अदालत के सामने समर्पण कर देगा.

न्यायाधीश ने कहा कि नीरव ने खुद माना है कि वह ‘‘अवसाद’’ में है और यह ऐसी वजह नहीं है कि वह जमानत से इंकार के पुराने आदेश को बदल दें.

इसे भी पढ़ें – #DelhiPollution : SC की दिल्ली, हरियाणा व पंजाब सरकार को फटकार,  कहा- लोगों की परवाह नहीं है तो सत्ता में क्यों हैं

न्यायाधीश ने नीरव मोदी की नयी जमानत याचिका के बारे में पिछले महीने भारतीय मीडिया को खबरें लीक करने की भी आलोचना की. खबरों में गोपनीय चिकित्सा रिपोर्ट के जरिए उसकी मानसिक स्थिति के बारे में बताया गया था.

न्यायाधीश ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि डॉक्टरों की रिपोर्ट लीक हुई. ऐसा नहीं होना चाहिए. इससे अदालत के प्रति भरोसा घटेगा.

भारत सरकार की ओर से क्राउन प्रोसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) के लिए पेश जेम्स लेविस ने जोर दिया कि इस तरह की ‘लीक’ अफसोसजनक है, लेकिन यह भारत की ओर से नहीं हुआ.

उन्होंने जमानत याचिका को इस आधार पर चुनौती दी कि पूर्व के तीन मौके की तरह इस बार भी परिस्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है और नीरव का इरादा ब्रिटेन से भागने का है.

नीरव के वकील हूगो कीथ ने पूर्व में 20 लाख पाउंड मुचलके की जगह 40 लाख पाउंड देने और इलेक्ट्रॉनिक टैगिंग के साथ लगातार निगरानी की पेशकश की.

नीरव मोदी 19 मार्च को गिरफ्तारी के बाद दक्षिण-पश्चिम लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में है. भारत सरकार के अनुरोध पर स्कॉटलैंड यार्ड (लंदन पुलिस) ने प्रत्यर्पण वारंट की तामील करते हुए उसे गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें – रियल एस्टेट सेक्टर को सरकार ने दिया बड़ा सहारा, 10 हजार करोड़ के फंड को मंजूरी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like