World

#London: बंद ट्रक में माइनस 25 डिग्री तापमान में मिले थे 39 शव, मामले में चार लोग गिरफ्तार

London: ब्रिटेन में एक ट्रक से 39 लोगों का शव मिले थे. इस सनसनीखेज मामले की जांच कर रही ब्रिटिश पुलिस ने तीन और लोगों को गिरफ्तार किया है. मामले में ड्राइवर समेत अबतक चार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

बंद ट्रक में -25 डिग्री तापमान में मिले थे 39 शव

बता दें कि बुधवार को 39 लोगों के शव बंद ट्रक में मिले थे. ब्रिटिश मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रक बाहर से बंद था और अंदर का तापमान माइनस 25 डिग्री था. जिसमें आठ महिलाएं और 31 पुरुष थे. ऐसा माना जा रहा है कि मृतक चीनी नागरिक थे.

इसे भी पढ़ेंः#NagalandPeaceAccord: आखिरी दौर में शांति समझौते की बातचीत, उत्तर-पूर्वी राज्य में कश्मीर वाले हालात

बंद ट्रक से मिले 39 शव

हालांकि, उनकी नागरिकता की अभी पुष्टि नहीं हुई है. इस मामले ने ब्रिटेन में सनसनी पैदा कर दी है. शुक्रवार को ब्रिटिश पुलिस ने कहा कि उसने इस नरसंहार के संदेह और मानव तस्करी की साजिश रचने के आरोप में तीन और लोगों को गिरफ्तार किया है.

चार लोग गिरफ्तार

हत्या के संदेह में घटनास्थल से उत्तरी आयरलैंड के 25 वर्षीय ट्रक चालक को हिरासत में लेने के बाद एसेक्स पुलिस ने शुक्रवार को तीन और लोगों को गिरफ्तार करने की पुष्टि की. पुलिस ने बताया कि एक पुरुष और एक महिला को तस्करी की साजिश रचने और 39 लोगों की हत्या के संदेह में उत्तरी इंग्लैंड के चेशायर से गिरफ्तार किया गया. दोनों की उम्र 38 वर्ष है. वहीं तीसरे व्यक्ति की गिरफ्तारी इंग्लैंड के स्टैंसटेड हवाई अड्डे से की गई है. वह उत्तरी आयरलैंड का रहने वाला है.

शवों में से पहला पोस्टमार्टम शुक्रवार को किया गया. जांचकर्ता यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि उनकी मौत कैसे हुई.

इसे भी पढ़ेंः12 विधानसभा सीटें जो बनेंगी बीजेपी लिए सिरदर्द, 2014 चुनाव के नंबर वन और टू हो चुके हैं भाजपाई

पुलिस ने शुक्रवार को कहा, ‘इसके बाद औपचारिक तौर पर पहचान की जाएगी और यह लंबी प्रक्रिया होगी. लेकिन इस जांच का अहम हिस्सा है. जैसे-जैसे हमारी जांच आगे बढ़ेगी तो पहचान के संबंध में तस्वीर स्पष्ट हो सकती है.’ यह साल 2005 में लंदन आत्मघाती धमाकों के बाद से ब्रिटेन में हत्या मामलों की सबसे बड़ी जांच है.

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस घटना को ‘अकल्पनीय त्रासदी’ बताया है. इस बीच, चीन की राजनीतिक विश्लेषक हुवा पो ने कहा कि यूरोप जाने वाले चीनी नागरिकों की संख्या बढ़ गयी है, क्योंकि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के नेतृत्व में चीन की खुद की नीति अधिक रूढ़िवादी हो गयी है. उन्होंने कहा, ‘निजी उद्योगों का अस्तित्व में बने रहना बहुत मुश्किल हो गया है जिससे बेरोजगार लोगों की संख्या बढ़ गयी है.’

इसे भी पढ़ेंःबुंडू: छह माह का अपहृत बच्चा सकुशल बरामद, अपराधी गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button