न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनाव  2019  : आरएसएस का स्वयंसेवकों को संदेश, जनता को जागरूक करें कि वह देशहित में सही सरकार चुने

2019  का लोकसभा चुनाव  का दंगल दिलचस्प होगा. मोदी की भाजपा का रथ रोकने की कवायद में जुटे विपक्षी नेता क़्या  ऐसा कर पायेंगे?  यह सवाल राजनीतिक हलकों में तैर रहा है.

26

NewDelhi : 2019  का लोकसभा चुनाव  का दंगल दिलचस्प होगा. मोदी की भाजपा का रथ रोकने की कवायद में जुटे विपक्षी नेता क़्या  ऐसा कर पायेंगे?  यह सवाल राजनीतिक हलकों में तैर रहा है. इसी बीच ख्रबर है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ इस चुनाव में अहम भागीदारी निभाने जा रहा है. उसने अपने स्वयंसेवकों को संदेश दिया   है कि इस बार अपनी विचारधारा के अनुकूल सरकार लाने के लिए ज्यादा जोर लगाना होगा. खबर है कि संघ के लोग मतदाता जागरण के जरिए 100 फीसदी मतदान की कोशिश के साथ ही देशहित में सही सरकार चुनने की बात  लोगों से कहेंगे. पिछले दिनों ग्वालियर में हुई संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा के जरिए भी यह संदेश दिया गया.   संघ के एक नेता ने माना है कि इस बार ज्यादा मेहनत करने की जरूरत है. कहा कि हम स्वयंसेवकों को भी यही बता रहे हैं.  स्वयंसेवक लोगों के बीच जाकर 100 फीसदी मतदान की बात समझा रहे हैं. मतदान का प्रतिशत बढ़ाने की कोशिश में स्वयंसेवक काम कर रहे हैं. ग्वालियर में समापन भाषण में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने भी यही कहा था.

संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने कहा था कि लोगों को मालूम है कि देशहित में क्या करना है. उनका इशारा साफ था. संघ के एक अऩ्य नेता ने कहा कि इस बार चुनौतियां ज्यादा हैं. क्या चुनौतियां हैं, यह पूछने पर उन्होंने कहा कि इस बार सब ज्यादा शक्ति से लगेंगे,  क्योंकि इस बार राष्ट्रविरोधी शक्तियां भी लगी हुई हैं.

इसे भी पढ़ेंः डॉ मनमोहन सिंह ने दिया जीएसटी काउंसिल को चेंजमेकर ऑफ द ईयर अवार्ड , जेटली ने रिसीव किया

2014 के चुनाव में माहौल पूरी तरह भाजपा के समर्थन का था

2014 के चुनाव में माहौल पूरी तरह भाजपा के समर्थन का था.  अब लोगों में राजी-नाराजगी सब है.  ये सब जगह है, स्वयंसेवकों में भी है.  इसलिए राष्ट्रविरोधी ताकतों को रोकने के लिए ज्यादा जोर लगाना होगा. कौन हैं राष्ट्रविरोधी ताकतें, यह पूछने पर संघ के नेता ने कहा कि संघ जिन्हें राष्ट्रविरोधी शक्तियां मानता है वह देश के अंदर भी हैं और बाहर भी.  वे ताकतें नहीं चाहती कि संघ और संघ की राष्ट्रवादी विचारधारा देश में लंबे समय तक कायम रहे, इसलिए वह उस विचारधारा को परास्त करने के लिए तरह तरह के गठजोड़ कर रहे हैं. संघ के लोग किस तरह मतदाताओं तक पहुंचेंगे यह पूछने पर संघ के एक नेता ने कहा कि संघ का सांगठनिक ढांचा सब जगह है.

बूथ के हिसाब से स्वयंसेवकों की टोलियां बनेंगी और वह डोर-टू-डोर जाकर जागरण पत्र बांटेंगे.  वह किसी पार्टी का नाम नहीं लेंगे, लेकिन राष्ट्रीय कर्तव्यों का बोध करायेंगे.  मतदान अहम दायित्व है यह बतायेंगे, साथ ही देशहित में सोचकर मतदान करने को कहेंगे.

इसे भी पढ़ेंः अनिल अंबानी ने 19 मार्च तक 453 करोड़ रुपये एरिक्सन कंपनी को नहीं दिये तो जेल जाना पड़ेगा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: