न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2019 : महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन बस कुछ हाथ दूर !

भाजपा की राज्य कोर कमेटी की दो दिवसीय बैठक प्रदेश के जालना में सोमवार से शुरू हो रही है. माना जा रहा है कि बैठक में शिवसेना के साथ गठबंधन को लेकर भाजपा अहम निर्णय ले सकती है.

54

Mumbai : महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर भाजपा एक बार फिर अपनी राजनीतिक ताकत दिखाने के लिए पूरी तरह से कवायद में जुट गयी है. बता दें कि भाजपा की राज्य कोर कमेटी की दो दिवसीय बैठक प्रदेश के जालना में सोमवार से शुरू हो रही है. माना जा रहा है कि बैठक में शिवसेना के साथ गठबंधन को लेकर भाजपा अहम निर्णय ले सकती है. बैठक में महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस, अध्यक्ष रावसाहब दानवे सहित पार्टी के सभी विधायक, सांसद, प्रदेश सरकार के मंत्री, केंद्रीय मंत्री शामिल होंगे. साथ ही भाजपा के जिला अध्यक्ष, लोकसभा विस्तारक समेत प्रदेश पदाधिकारी उपस्थित रहेंगे. इस बैठक से एक दिन पहले आरएसएस की औरंगाबाद में एक महत्वपूर्ण बैठक थी, जिसमें देवेंद्र फडणवीस भी शामिल हुए. सूत्रों के अनुसार आरएसएस की बैठक में आगामी लोकसभा चुनाव पर भी विचार-विमर्श किया गया. बदलते घटनाक्रम के बीच शिवसेना और भाजपा गठबंधन को लेकर एक अहम खबर आयी है.

चैनल आजतक की मानें तो शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व हाथ मिलाने के लिए तैयार हैं. शिवसेना के सूत्रों के अनुसार पार्टी लोकसभा चुनाव के लिए दो सीटें और चाहती है. 2014 के लोकसभा चुनाव में शिवसेना ने राज्य में 20 सीटों पर चुनाव लड़ कर 18 में जीत हासिल की थी, अब वे 22 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं. भाजपा 24 सीटों पर चुनाव लड़ कर 23 पर जीत दर्ज की थी.

तीन राज्यों के हार के बाद भाजपा थोड़ी कमजोर स्थिति में है

hosp3

हालांकि हाल ही में तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद भाजपा थोड़ी कमजोर स्थिति में है. शिवसेना भाजपा की इस स्थिति का फायदा उठाने के चक़्कर में है. इसलिए मौका मिलने पर उसकी आलोचना करने से नहीं चूक रही. शिवसेना के भीतर नेताओं का एक धड़ा है जो भाजपा के साथ गठबंधन करना चाहता है. भाजपा के साथ गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा के लिए सोमवार को उद्धव ठाकरे ने भी पार्टी मुख्यालय में बैठक बुलाई है. बैठक में उद्धव ने सांसदों और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को मौजूद रहने के लिए कहा गया है. उद्धव ठाकरे के करीबी सूत्रों के अनुसार अगर गठबंधन को आगे बढ़ाने की जरूरत है, तो इस बार शिवसेना गठबंधन में अन्य साझेदारों के लिए कोई जगह नहीं छोड़ेगी. वे चाहते हैं कि भाजपा उन्हें उनके कोटे से ये सीटें दे.

इसे भी पढ़ें :  सोनिया, राहुल गोवा में, कांग्रेस को उम्मीद कि सत्ता मिलेगी, पांच विधायकों के संपर्क में होने का दावा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: