न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनावः सुरक्षाबल की 600 कंपनियों और 11 हजार होमगार्ड के जवान संभालेंगे सुरक्षा व्यवस्था

272

Ranchi: लोकसभा चुनाव में किसी भी प्रकार की विधि-व्यवस्था में समस्या उत्पन्न नहीं हो इसके लिए सुरक्षाबल की 600 कंपनियों और 11 हजार होमगार्ड के जवान सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभालेंगे. 11 हजार होमगार्ड के जवानों की तैनाती के लिए सरकार से स्वीकृति मिल गई है. गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने पुलिस मुख्यालय के आग्रह को स्वीकार करते हुए 11 हजार होमगार्ड के जवान उपलब्ध करा दिये हैं. ये होमगार्ड के जवान झारखंड में चार चरणों में होनेवाले लोकसभा चुनाव के दौरान विधि-व्यवस्था में लगाये जायेंगे.

mi banner add

इसे भी पढ़ें – वोट कम और माफी ज्यादा मांग रहे चतरा से BJP प्रत्याशी सुनील सिंह, हो रहा भारी विरोध-देखें वीडियो

पुलिस मुख्यालय ने की थी मांग

गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग से पुलिस मुख्यालय ने चुनाव के दौरान होमगार्ड के जवानों की मांग की थी. झारखंड में 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई को मतदान होना है. शांतिपूर्ण चुनाव व विधि- व्यवस्था के लिए पुलिस मुख्यालय ने होमगार्ड के जवानों की मांग की थी. वर्तमान में राज्य के सभी जिलों में प्रतिनियुक्त होमगार्ड की संख्या 2490 है. शांतिपूर्ण चुनाव के लिए 8510 अतिरिक्त गृह रक्षकों की मांग की गई थी, ताकि बल की कमी न हो.

इसे भी पढ़ें – नोटबंदी के बाद 50 लाख लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा : रिपोर्ट

सुरक्षाबल की 600 कंपनियां रहेंगी तैनात

झारखंड में माओवादियों के साये से मुक्त चुनाव के लिए भारी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती होगी. चुनाव के दौरान जैप, जगुआर, आइटीबीपी, आइआरबी और सीआरपीएफ की 600 कंपनियां तैनात की जायेंगी. 200 कंपनी पारा मिलिट्री फोर्स नक्सल प्रभाववाले बूथों व संवेदनशील इलाकों में तैनात किये जायेंगे. चुनाव के दौरान 30 प्रतिशत बलों को अतिसंवेदनशील बूथों पर तैनात किया जाएगा, 25 फीसदी बलों की तैनाती संवेदनशील जबकि बाकि बलों की तैनाती सामान्य बूथों पर की जायेगी.

इसे भी पढ़ें – बेगुसराय में कन्हैया कुमार का विरोध, एक युवा ने पूछा, आपको कैसी आजादी चाहिए?  देशद्रोही मुर्दाबाद के नारे लगे

लैंडमाइंस और आइइडी बमों से निपटने के सिखाये जा रहे गुर

झारखंड के नक्सल प्रभावित जिलों में चुनाव के दौरान कोई अनहोनी न हो, इसके लिए पुलिस को विशेष ट्रेनिंग दी जा रही है. पुलिस को आशंका है कि चुनावों के दौरान नक्सली हिंसक वारदात को अंजाम दे सकते हैं. इसलिए पुलिस पहले से सतर्कता बरत रही है. किसी भी हमले से निबटने के लिए अपने अधिकारियों और जवानों को तैयार कर रही है. इन्हें लैंडमाइंस और आइइडी बमों से निपटने के गुर सिखाये जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – राहुल ने कहा, मोदी सबसे बड़े देश विरोधी, देश को बांट दिया, लोग आपस में लड़ रहे हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: