न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2014 : 240 उम्मीदवारों ने चुनाव में ठोंकी थी ताल, सिर्फ 31 की ही बची जमानत

620

PRAVIN/GAURAV

Ranchi: पिछले लोकसभा चुनाव में झारखंड की 14 सीटों पर 240 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे. सभी सीटों पर सिर्फ दो उम्मीदवारों के बीच ही सीधी टक्कर देखने को मिली थी. किसी भी सीट पर त्रिकोणीय संघर्ष देखने तक नहीं मिला. 240 में से सिर्फ 31 उम्मीदवार ही अपनी जमानत बचा सके. कुल 209 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. उम्मीदवारों को जमानत बचाने के लिए कुल पड़े मतों का 16.6 प्रतिशत मत हासिल करना जरूरी होता है. झारखंड की 14 लोकसभा सीटों पर 2014 के लोकसभा चुनाव में पांच राष्ट्रीय पार्टियां मैदान में थीं. जिनमें भाजपा, कांग्रेस, बसपा, सीपीआइ और सीपीएम शामिल थी. वहीं चार राज्य स्तर की पार्टियों ने भी भाग लिया था. राज्य की आजसू पार्टी, झाविमो, झामुमो और राजद ने भी किस्मत आजमायी थी. इसके अलावा देश भर से 31 पार्टियों ने अनरिकॉगनाइज्ड पार्टी के रूप में चुनाव लड़ा था.

आजसू 14 सीटों में से 9 पर चुनाव लड़ी, जिसमें सभी सीटों पर जमानत जब्त हो गयी. झाविमो 14 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, जिसमें 12 में पार्टी के उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी. राष्ट्रीय पार्टी बसपा किसी भी सीट पर जमानत बचा पाने में नाकाम हुई. सीपीआइ सिर्फ कोडरमा सीट पर जमानत बचा सकी. झामुमो चार सीटों पर चुनाव लड़ी, जिसमें एक में जमानत जब्त हो गयी.

इसे भी पढ़ें – दो दिन पहले झारखंड और बंगाल के लिए बनाये गये विशेष पर्यवेक्षक केके शर्मा को चुनाव आयोग ने भेजा आंध्रप्रदेश

राजमहल लोकसभा

राजमहल लोकसभा क्षेत्र में कुल 9,51,563 वोट पड़े थे. इस सीट पर कुल 11 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था. 11 में से 9 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. इस सीट से झारखंड मुक्ति मोर्चा के युवा उम्मीदवार विजय कुमार हांसदा ने चुनाव जीता था. उन्हें कुल पड़े मतों का 39.87 प्रतिशत वोट मिला था. वहीं 35.53 प्रतिशत वोटों के साथ भाजपा के हेमलाल मुर्मू दूसरे स्थान पर रहे थे. इस सीट पर आजसू, बसपा, झाविमो और सीपीआइ जैसे प्रमुख दलों के प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गयी थी.

दुमका लोकसभा

दुमका लोकसभा से कुल 14 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था. 14 में से 11 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. इस सीट पर शिबू सोरेन जीते थे. उन्हें 37.19 प्रतिशत वोट मिला था. सुनील सोरेन जो इस बार भी भाजपा के दुमका लोस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं वो दूसरे नंबर पर थे उन्हें 32.86 प्रतिशत वोट मिले थे. झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी तीसरे स्थान पर थे. वे इसबार कोडरमा सीट से चुनाव लड़ेंगे. इस सीट में तीन राष्ट्रीय पार्टी समेत 11 उम्मीदवार अपनी जमानत नहीं बचा सके थे.

इसे भी पढ़ें – यमुना एक्सप्रेसवे पर बस ने ट्रक को मारी टक्कर, आठ की मौत, कई घायल

गोड्डा लोकसभा

गोड्डा लोकसभा से 16 उम्मीदवारों में से 13 की जमानत जब्त हो गयी थी. गोड्डा सीट पर भाजपा के निशिकांत दुबे चुनाव जीते थे. इन्हें कुल मतों का 36.25 प्रतिशत वोट प्राप्त हुआ था. इसबार गठबंधन के कारण टिकट से वंचित रहनेवाले फुरकान अंसारी को 32.86 प्रतिशत वोट मिले थे. प्रदीप यादव 18.44 प्रतिशत वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे. इस सीट पर आजसू, बसपा, सपा, सीपीआइ, जदयू समेत कई प्रमुख उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी.

चतरा लोकसभा

चतरा सीट से कुल 20 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था. जिसमें से भाजपा के सुनील कुमार सिंह के सामने सभी उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. कांग्रेस के धीरज कुमार साहू, झाविमो की नीलम देवी के साथ आजसू और झाविमो जैसी पार्टियों के प्रत्याशी भी अपनी जमानत नहीं बचा पाये थे. सुनील कुमार सिंह को 41.50 प्रतिशत वोट मिले थे. इस बार अभी तक भाजपा ने इस सीट पर प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है. झाविमो से चुनाव लड़ी नीलम देवी भी भाजपा में शामिल हो चुकीं हैं.

इसे भी पढ़ें – चुनाव में रिश्वत के मामलों से निपटने के लिए आयोग ने की थी अधिक शक्तियों की मांग, सरकार ने ठुकराया

कोडरमा लोकसभा

कोडरमा सीट से सांसद रहे रविंद्र राय का टिकट भले इस बार कटता नजर आ रहा है, पर पिछले चुनाव में इनके खिलाफ चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों में से सिर्फ एक प्रत्याशी ही जमानत बचा पाये थे. भाजपा को 35.65 प्रतिशत वोट मिले थे, वहीं सीपीआइ एमएल के राजकुमार यादव को 26 प्रतिशत वोट मिले थे. इस सीट पर आजसू, कांग्रेस जेपीएम, जैसी पार्टियों की जमानत जब्त हो गयी थी.

गिरिडीह लोकसभा

गिरिडीह लोकसभा सीट से 2019 में भाजपा चुनाव नहीं लड़ रही है. पर पिछले चुनाव में भाजपा से चुनाव लड़े रविंद्र कुमार पांडेय को 40.35 प्रतिशत वोट मिले थे. इस सीट पर 17 में से 15 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. जिसमें आजसू, बसपा, जेवीएम पार्टी के उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. इस सीट पर इसबार गठबंधन के तहत भाजपा नहीं बल्कि आजसू के प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे.

इसे भी पढ़ें – गर्मी में बिजली के लिये मचेगा हाहाकार, सेंट्रल और निजी कंपनियों के रहमोकरम पर झारखंड की बिजली

धनबाद लोकसभा

SMILE

धनबाद सीट पर पिछले लोकसभा चुनाव में 31 उम्मीदवारों में से 29 उम्मीदवार की जमानत जब्त हो गयी थी. इस सीट पर पीएन सिंह को 47. 51 प्रतिशत वोट मिले थे. इस सीट से जेवीएम, आजसू जैसी प्रमुख पार्टियों की जमानत जब्त हो गयी थी. इस सीट पर सबसे अधिक 17 निर्दलीय उम्मीदवारों ने पर्चा भरा था. एक की भी जमानत नहीं बची.

रांची लोकसभा

रांची लोकसभा सीट इस सबसे हॉट सीट में से एक है. सीटिंग सांसद रामटहल चैधरी का टिकट लगभग कट चुका है. पिछले चुनाव में इन्हें 42.74 प्रतिशत वोट मिले थे. रांची से 28 में से 26 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. सुबोधकांत सहाय को 23 प्रतिशत वोट मिले थे. इस सीट से आजसू, झाविमो, बसपा, सीपीआइ जैसी प्रमुख पार्टियां जमानत नहीं बचा पायी थीं.

इसे भी पढ़ें – बिहार : लंबी खींचतान के बाद महागठबंधन में हुआ सीटों का बंटवारा

जमशेदपुर लोकसभा

जमशेदपुर लोकसभा से 2014 के चुनाव में 15 में से 13 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. भाजपा के विद्युत वरण महतो को 44 प्रतिशत वोट मिले थे. दूसरे स्थान पर झाविमो के अजय कुमार को 34.74 प्रतिशत वोट मिले थे. अब अजय कुमार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष हैं और सीट गठबंधन के तहत झामुमो के खाते में है. यहां से झामुमो और बसपा समेत 13 की जमानत जब्त हो गयी थी.

सिंहभूम लोकसभा

इस सीट पर कुल 12 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा था. जिसमें से 10 की जमानत जब्त हो गयी थी. लक्ष्मण गिलुआ भाजपा के टिकट से जीते थे, वहीं उनके अलावा सिर्फ गीता कोड़ा ही जमानत बचा सकी थीं. जेएमएम की भी जमानत जब्त हो गयी थी. इस बार गीता कोड़ा कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाली हैं.

इसे भी पढ़ें – अनु पाठक हत्याकांड : आरोपी पति विनोद पाठक को आजीवन कारावास

खूंटी लोकसभा

खूंटी सीट पर पिछली बार 14 उम्मीदवारों ने भाग्य आजमाया था. जिसमें से 11 की जमानत जब्त हो गयी थी. भाजपा के कड़िया मुंडा को 36.49 प्रतिशत वोट मिले थे. इस बार कड़िया मुंडा के स्थान पर अर्जुन मुंडा चुनाव लड़ रहे थे. आजसू पार्टी इस सीट पर भी जमानत बचाने में नाकाम थी.

लोहरदगा लोकसभा

लोहरदगा सीट पर पिछली बार नौ उम्मीदवारों ने भाग्य आजमाया था. नौ में से 6 जमानत नहीं बचा पाये थे. भाजपा के सुदर्शन भगत 34.78 प्रतिशत मतों के साथ विजयी हुए थे. वहीं कांग्रेस और चमरा लिंडा को छोड़ कर सभी की जमानत जब्त हो गयी थी. इस सीट पर चुनाव लड़े जेवीएम, बसपा और सीपीआइ एम भी जमानत बच नहीं सकी थी.

इसे भी पढ़ें – सुबोधकांत सहाय को टिकट मिलने की घोषणा नहीं, फिर भी जुट गये जनसंपर्क अभियान में

पलामू लोकसभा

पलामू लोकसभा से वीडी राम को 48.75 प्रतिशत वोट मिले थे. यहां 13 में से 11 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. जेवीएम के प्रत्याशी की जमानत यहां भी जब्त हो गयी थी. राष्ट्रीय पार्टी बसपा की भी जमानत जब्त हो गयी थी.

हजारीबाग लोकसभा

हजारीबाग सीट से कुल 18 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गयी थी. कुल 20 लोगों ने चुनाव लड़ा था. यहां आजसू, झाविमो जैसी पार्टियां भी जमानत नहीं बचा पायी थीं. कांग्रेस यहां दूसरे स्थान पर रही थी.

इसे भी पढ़ें – खान विभाग को लक्ष्य से 1115.82 करोड़ कम मिली रॉयल्टी, लक्ष्य पूरा करने में 23 जिले पीछे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: