Khas-KhabarLohardaga

झारखंड का लोहरदगा एक ऐसा जिला, जहां की सुरक्षा, विकास, शिक्षा, कोर्ट, स्वास्थ्य समेत सभी प्रशासनिक पदों पर महिलाएं हैं काबिज

Lohardaga: कहते हैं कि जहां महिला का सम्मान नहीं होता है, वहां   लक्ष्मी का वास नहीं होता है. बच्चे की पहली गुरू भी मां ही होती है. समाज में एक वक्त ऐसा भी था, जब मातृसतात्मक परिवार का भी चलन था. और सबकुछ बडी ही जिम्मेवारी के साथ महिलाएं निभाती भी थीं. लेकिन वक्त के साथ इसमें भी परिवर्तन आया. अभी की बात करें तो हर क्षेत्र में महिलाओं की इस समय भागीदारी है. और कहीं कहीं तो इसका ठोस प्रमाण भी देखने को मिलता है, जब बड़ी जिम्मेवारियां महिलाओं के भरोसे होती है. जिससे कई पुरूषों को भी इससे जलन होने लगती है.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand में Lockdown3.0 में भी नहीं मिलेगी किसी तरह की कोई छूट

सभी पदों की जिम्मेवारी महिलाओं की

झारखंड का लोहरदगा जिला भी कुछ ऐसा ही है. जहां सभी बड़े पदों पर महिलाएं ही आसीन हैं. और अपनी जिम्मेवारियों को बखूबी वे निभा रही हैं. आश्चर्य इस बात की है कि ये जिला भारत ही नहीं बल्कि पूरे एशिया महादेश में ऐसा इकलौता जिला है, जहां उच्च पदों पर महिलाएं ही हैं. जिले की 15 शीर्ष प्रशासनिक पदों पर महिलाएं ही हैं.

इस जिले की DC,SP,DDC,SDM,CJM,ADJ,LRDC इन सभी पदों पर महिलाएं ही काबिज हैं. इसके अलावा ज्यूडशरी रजिस्ट्रार,परियोजना पदाधिकारी, पंचायती राज पदाधिकारी, उद्यान पदाधिकारी, जिला उत्पाद पदाधिकारी,जिला उद्योग महाप्रबंधक, जिला परिषद अधियक्ष के अलावा नगर परिषद अध्यक्ष के पद भी महिलाएं ही हैं.

SP
लोहरदगा एसपी प्रियंका मीणा

जिले की डीसी अकांक्षा रंजन हैं. जबकि एसपी के पद पर प्रियंका मीणा, SDO ज्योति झा और DDC आर रॉनिटा हैं. इसके अलावा अन्य पदों पर भी महिला अधिकारी ही काबिज हैं.

इसे भी पढ़ें – लॉकडाउन के बीच फरवरी और मार्च से बढ़ी जेबीवीएनएल की बिलिंग वसूली, अप्रैल माह में 90 करोड़ कलेक्शन

नारी शक्ति का केंद्र है ये जिला

यानि कि यूं कहें कि लोहरदगा जिला ऐसा है, जो नारी शक्ती का केंद्र है. सभी महत्वपूर्ण और बड़ी जिम्मेवारियां इन्हीं के हाथों में है,जो अपने आप में किसी रिकॉर्ड से कम नहीं है. साथ ही लोहरदगा के लोगों में इस बात को लेकर भी खुशी है कि वे अपनी समस्याओं को महिला पदाधिकारियों के सामने बड़े आराम से रख पाते हैं और उन्हें परिवार जैसा एक माहौल भी मिल गया है.

महिला के तीन रूप दुर्गा, लक्ष्मी और काली से इस संसार में यश,धन और तप है. ये तीनों रूप मिलकर ही समाज का निर्माण करती हैं. जिसकी बानगी लोहरदगा में देखने को मिल रहा है.

इसे भी पढ़ें – #CoronaOutbreak: भारत में कोरोना के केस 39 हजार के पार, मृतकों की संख्या बढ़कर 1,301

 

 

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close