न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

किस्‍को में अधिकारी पालन-पोषण करे रहे हैं 100 कुपोषित बच्चों को, स्थिति देखने पहुंचे डीसी

174

Lohardaga : जिले के अधिकारी 100 कुपोषित बच्चों को पाल रहे हैं. उनकी दवाई, खाना, कपड़े, खिलौने की व्यवस्था भी अधिकारी ही करते हैं. गोद लिए गए कुपोषित बच्चों को हाल जानने को लेकर रविवार को डीसी विनोद कुमार किस्को प्रखंड के अरेया गांव पहुंचे. डीसी ने दोनों बच्चों के स्वास्थ्य और शारीरिक विकास की जानकारी भी ली. डीसी विनोद कुमार की अगुवाई में प्रशासन ने जिले के करीबन 100 बच्चों को गोद लिया है. प्रत्येक अधिकारी अपने गोद लिए बच्चों के शारीरिक, मानसिक विकास के लिए निजी पहल कर रहे हैं. उन बच्चों के लिए दवाई, पौष्टिक आहार, कपड़े, खिलौने जैसे अन्य सामान का इंतज़ाम किया जा रहा है. जिससे की वे बच्चे भी अन्य बच्चों की तरह मुस्कुरा सकें. इन चिन्हित बच्चों के शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक विकास के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है. समय-समय पर इनकी बृद्धि और स्वास्थ्य में सुधार की समीक्षा उपायुक्त विनोद कुमार द्वारा स्वयं की जाती है. रविवार अवकाश के बावजूद उपायुक्त विनोद कुमार सपरिवार अपनी धर्मपत्नी और बच्चों के साथ अपने गोद लिए बच्चे कुमकुम और आयुष से मिलने किस्को प्रखंड के अरेया गांव पहुंचे. उपायुक्त ने बच्चों के माता-पिता से उनका हालचाल जाना.

इसे भी पढ़ें- कार्यकर्ता चुनाव की तैयारी में जुट जाएं  व संगठन का जल्द करें विस्‍तार: परशुराम प्रसाद

स्वास्थ्य सुधार के बारे में जानकारी प्राप्त की. उन्होंने वहीं पर साथ गए चिकित्सक डॉक्टर शैलेश एवं एमओआईसी की टीम से उन बच्चों का स्वास्थ्य जांच कराया. साथ ही बच्चों के स्वास्थ्य में हो रहे सुधार के बारे में जानकारी प्राप्त की. उपायुक्त ने चिकित्सकों से कहा कि वे नियमित अंतराल में आकर इन बच्चों की स्वास्थ्य जांच करते रहें. उन्होने कहा कि कुपोषण मुक्त समाज का निर्माण करना हम सभी की जिम्मेवारी है. चिकित्सक न सिर्फ उनके द्वारा गोद लिए गये बच्चों का बल्कि जिले के हरेक ऐसे बच्चों को चिन्हित कर वे उनका समुचित इलाज करें. इसे नेक कार्य मानते हुए निःस्वार्थ सेवा भाव से करनी चाहिए. उपायुक्त ने उन बच्चों को फल, चॉकलेट, कंबल तथा आर्थिक सहायता के रूप में नगद राशि भी दिया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: