न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोहरदगा: 84 ड्रम स्प्रीट जब्त, शराब के लिए कच्चा माल बिहार ले जाने की थी तैयारी

करीब एक करोड़ का कच्चा माल जब्त

456

Lohardaga: लोहरदगा में उत्पाद विभाग और जिला पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में अवैध शराब निर्माण के बड़े कारोबार का भंडाफोड़ हुआ है. बड़ा कारोबार इस वजह से क्योंकि झारखंड ही नहीं बिहार, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश तक इस अवैध शराब के धंधे के तार जुड़े हुए हैं. उत्पाद विभाग और जिला पुलिस की टीम ने भारी मात्रा में शराब बनाने का कच्चा सामान जब्त किया है.

84 ड्रम स्प्रीट जब्त

संयुक्त टीम ने लोहरदगा जिले के सीरम पंचायत के जोबांग थाना क्षेत्र के पांडेपूरा गांव से एक-दो नहीं बल्कि पूरे 84 ड्रम स्प्रीट जब्त की है, जो कुल 16800 लीटर है. जिसकी अनुमानित कीमत अभी 1 करोड रुपए से ज्यादा बताई जा रही है. इसके अलावा एक कंटेनर ट्रक, एक स्कार्पियो, एक बोलेरो, तीन मोबाइल फोन, 7 बोरा में अलग-अलग शराब के रैपर और भारी संख्या में शराब की खाली बोतलें बरामद की गई हैं. जिला पुलिस बल और उत्पाद विभाग के लिए यह अब तक की सबसे बड़ी सफलता है.

hosp3

जितनी बड़ी मात्रा में स्प्रीट बरामद हुई है अगर उससे शराब बनायी जाती तो पूरे बिहार को शराब से नहलाया जा सकता था. वही पूर्ण रूप से शराब प्रतिबंधित किसी राज्य में शराब निर्माण को लेकर इतनी भारी मात्रा में कच्चे माल को गोपनीय रूप से पहुंचाने की बात ही अपने आप में महत्वपूर्ण है. इस कार्रवाई के दौरान टीम भी हैरत में पड़ गयी. झारखंड और बिहार में अबतक इतनी भारी मात्रा में कभी भी इस प्रकार के केमिकल और रॉ मटेरियल की बरामदगी नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ेंः फर्जी नक्सली सरेंडर मामलाः हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से 7 अगस्त तक मांगा जवाब

बताया जा रहा है कि बरामद सामग्री जब शराब में तब्दील हो जाती तो इसकी कीमत अरबों में हो सकती थी. यह झारखंड और बिहार के साथ-साथ छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की सरकारों के लिए भी एक बड़ा प्रश्न है. शराब माफियाओं की संलिप्तता इस कदर है कि कई राज्यों में इनके तार जुड़े होने के प्रमाण साफ तौर पर मिले हैं. अब उत्पाद विभाग और जिला पुलिस बल की टीम पूरे मामले का पर्दाफाश करते हुए दोषियों की गिरफ्तारी की कार्रवाई में जुट गई है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: