Ranchi

#LockDown21: संकट की घड़ी में झारखंड पुलिस की बेहतरीन पहल, दो दिनों में 43880 लोगों को खिलाया खाना

Ranchi: राज्य में लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए पुलिस प्रशासन अलर्ट है.ताकि कोरोना वायरस संक्रमण के चेन को तोड़ा जा सके.

वहीं, दूसरी ओर इस लॉकडाउन में जो लोग फंसे हैं उनकी मदद करने का भी पूरा प्रयास झारखंड पुलिस कर रही है.

इसे भी पढ़ेंः#Lockdown को लेकर गंभीर नहीं जमशेदपुरवासीः सड़क पर घूम रहे लोगों को पुलिस पकड़ कर ले गयी थाने

advt

राज्य के डीजीपी एमवी राव के आदेश के बाद पूरे राज्य में झारखंड पुलिस के द्वारा 236 कम्यूनिटी किचन खोले गये हैं. इन कम्यूनिटी किचन में 29 मार्च को 28880 लोगों को भोजन कराया गया.

इसके पहले 28 मार्च को भी झारखंड पुलिस 15000 लोगों को भोजन कराया था. पिछले दो दिनों के दौरान राज्य पुलिस ने 43880 लोगों को खाना खिलाने का काम किया गया.

गांव-गांव में जाकर खाना खिला रही पुलिस

झारखंड पुलिस गांव-गांव में जाकर गरीब, असहाय को खाना खिलाने का काम कर रही है. झारखंड पुलिस ऐसे लोगों को खाना खिला रही है, जिनके पास खाने-पीने के लिए कुछ नहीं है या फिर जो लॉकडाउन के दौरान दूसरे जिले या प्रांत से चलकर यहां पहुंचे हैं.

गांवों में जाकर खाना बांटते झारखंड पुलिस के जवान

राज्य के सभी थाना क्षेत्रों में जरूरतमंदों व असहायों के लिए भोजन, पेयजल व जलपान की व्यवस्था की गयी है.

adv

इसे भी पढ़ेंः#CoronaVirus: देश में संक्रमितों की संख्या 1100 के पार-30 की मौत, पलायन के मसले पर SC में सुनवाई आज

डीजीपी एमवी राव ने कही ये बात

झारखंड पुलिस के द्वारा खोले गये 236 कम्यूनिटी किचन में जरूरतमंद लोगों को भोजन कराया जा रहा है. इसको लेकर डीजीपी एमवी राव ने ट्वीट किया है. उन्होंने कहा कि झारखंड पुलिस भोजन की जरूरत में लोगों की मदद करने के लिए सहानुभूति के साथ काम कर रही है.

29 मार्च को हम पूरे राज्य में 28000 से ऊपर पहुंच गए. अगर इससे काम का बोझ बढ़ता है तो हम जिले के डीसी और झारखंड के सीएमओ के प्रयासों के समन्वय में मदद करने के लिए खुश हैं.

DGP ने सभी जिलों के SP को कम्यूनिटी किचेन खोलने का दिया था निर्देश

डीजीपी एमवी राव ने 27 मार्च को सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिया था कि जिन बाहरी लोगों के पास आजीविका के साधन उपलब्ध नहीं हैं, उनके संबंधित थाना क्षेत्रों में प्रवेश के दौरान चिकित्सीय जांच करायी जाए. इसके बाद भोजन की व्यवस्था थाना अथवा पुलिस पिकेट के स्तर से की जाए.

खाना देते समय सोशल डिस्टेंसिंग का भी रखा जा रहा ख्याल

डीजीपी ने उपायुक्त और खाद्य आपूर्ति विभाग से समन्वय और सहयोग प्राप्त कर कम्यूनिटी किचन खोलने का निर्देश जिलों के पुलिस अधीक्षकों को दिया था.
राव ने निर्देश देते हुए कहा था कि एसपी तत्काल यह व्यवस्था करें, साथ ही भोजन-आपूर्ति के समय सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का पालन भी किया जाए. डीजीपी ने सभी पुलिस अधीक्षकों द्वारा ऐहतियातन कदम उठाने की भी बात कही थी.

इसे भी पढ़ेंःMP महेश पोद्दार का CM हेमंत सोरेन को पत्रः व्यवसायी हर सहयोग को तैयार, अफसर उन्हें डराये नहीं उनसे बात करें, विश्वास में लें

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button