JharkhandPalamu

#LockDown : सरकार के आदेश की प्रधानाध्यापक ने उड़ायी धज्जियां, स्कूल बुला कर दर्जनों बच्चों के बीच बांटा एमडीएम का अनाज

Palamu : कोरोना वायरस के संक्रमण से बच्चों को बचाने के लिए उनके टोले और घर पर जाकर विद्यालय बंद रहने की अवधि का चावल व राशि देने का निर्देश है. इसको लेकर शिक्षकों को उनके टोले व घरों पर जाने का निर्देश दिया गया है. लेकिन पलामू जिले के पांकी में इससे उलटा हुआ.

पांकी प्रखंड की होटाई पंचायत के बनई राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय में विद्यालय के प्रधानाध्यापक द्वारा मध्यान्न भोजन के राशन वितरण के नाम पर स्कूली बच्चों को विद्यालय में बुला कर भीड़ इकट्ठा किया गया और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ायी गयीं. मध्यान्न भोजन का राशन लेने सैकड़ों छात्र-छात्राएं विद्यालय पहुचे. जबकि राशन एवं पैसा स्कूली बच्चों के घर तक पहुंचाया जाना था.

एक साथ बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों के पहुंचने से विद्यालय में मध्यान्न भोजन का राशन बांटने के दौरान भगदड़ की स्थिति उत्पन्न हो गयी. साथ ही निर्धारित मात्रा के अनुरूप बच्चों को राशन नहीं दिया गया.

advt

इसे भी पढ़ें – हिंदपीढ़ी से पकड़े गये तबलीगी जमात के 17 विदेशी नागरिकों पर मामला दर्ज, टूरिस्ट वीजा पर आये थे भारत

कक्षा एक से पांच तक को दो किलो एवं क्लास छः से आठ तक को तीन किलो राशन देना था. साथ ही राशन के साथ पैसा दिये जाने का भी प्रावधान था. एक पैसा भी स्कूली बच्चों को नहीं मिला. इन सब बातों की जानकारी अभिभावकों तक पहुंची तो अभिभावक विद्यालय पहुचे. आरोप है कि जहां कुछ पूछे जाने पर नरेश राम ने अभिभावकों के साथ दुर्व्यवहार किया.

ग्रामीण यह भी कह रहे थे कि नरेश राम मनमाने ढंग से विद्यालय का संचालन करते हैं एवं दबंगों की तरह अभिभावकों से व्यवहार करते हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए अभिभावकों एवं ग्रामीणों ने इसकी जानकारी क्षेत्रीय विधायक डॉ शशिभूषण मेहता को दी. डॉ मेहता ने तत्काक सूचना की गंभीरता को देखते हुए अपने मीडिया प्रभारी ओमप्रकाश दुबे को बनई भेज कर स्थिति की जानकारी ली. श्री दुबे ने भी इस मामले पर स्कूली बच्चों एवं अभिभावकों से बात की. इस संबंध में पंचायत के उप मुखिया सहित ग्रामीणों ने विधायक को लिखित आवेदन देकर इस मामले में कार्रवाई की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – कोरोना से लड़ने के लिए केंद्र ने दिया 15000 करोड़ का इमरजेंसी पैकेज, कई राज्यों को मिलेगा पैसा

adv

नक्सली मानसिकता के हैं प्रधानाध्यापक: विधायक

विधायक डॉ शशिभूषण मेहता ने कहा कि नरेश राम पूर्व में नक्सली थे और लगता है शिक्षक बन जाने के बाद भी उस मानसिकता से नहीं निकल पाये हैं. इनकी दबंगई अभिभावकों और स्कूली बच्चों पर नहीं चलेगी. जिले के उपायुक्त से मांग करता हूं कि जांच कर नरेश राम के खिलाफ अविलंब कार्रवाई की जाये और इस विकट परिस्थिति में स्कूली बच्चों को पूरा राशन और पैसा विभाग बच्चों के घर तक पहुंचाना सुनिश्चित करे.

घर में आग लगाने की धमकी

अभिभावकों ने कहा कि कोरोना जैसी बीमारी के बीच सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ायी गयीं. एक साथ सैकड़ों स्कूली बच्चों को विद्यालय बुलाया और निर्धारित मात्रा में न राशन दिया न पैसा. रूपदेव यादव कि पत्नी अनिता देवी के द्वारा जब कम राशन देने पर विरोध जताया गया तो नरेश राम धमकी पर उतारू हो गये और कहा कि घर में आग लगा देंगे मेरा ही नाम नरेश राम है.

क्या कहते हैं प्रभारी प्रधानाध्यापक

प्रधानाध्यापक नरेश राम ने इस संबंध में बताया की चावल तौल कर पूरी मात्रा में दिया गया है. राशि की निकासी नहीं हुई है. इसलिए पैसा नहीं बांटा गया है. मुझे राजनीतिक षडयंत्र के तहत इस मामले में फंसाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – #FightAgainstCorona: प्राइवेट क्लीनिकों में कार्यरत डायलिसिस टेक्नीशियनों की सेवा लेगा रिम्स प्रबंधन

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button