Corona_Updates

#Lockdown : रांची के कांके डैम से सटे इलाकों में भुखमरी के हालात, महज दो करछी खिचड़ी के लिए लग रही लंबी कतार

विज्ञापन
  • आर भारती ग्रुप की ओर से क्षेत्र के लेागों को कराया जा रहा भोजन
  • हर दिन 400-500 लोगों की मिट रही भूख

Ranchi: कोरोना महामारी के कारण हुए लॉकडाउन में जहां लोग घरों में बंद होने को मजबूर हैं, वहीं कई ऐसे भी हैं जो मानवता की मिसाल भी पेश कर रहे हैं. शहर के अलग-अलग इलाकों में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए भोजन बांटते दिख रहे हैं.

इस आपदा की कड़ी में ऐसी मानवता पेश कर रहे हैं कांके के आर भारती जो लॉकडाउन में अपने पांच अन्य साथियों के साथ मिल कर लोगों को भोजन करा रहे हैं. आर भारती ने इस काम के लिए आर भारती ग्रुप भी बनाया.

देखें वीडियो

इस ग्रुप द्वारा वैसे लोगों को भोजन खिलाया जा रहा है, जो मजदूर और निम्न वर्गीय हैं. कांके से सटे पतरागोंदा, हथिया गोंदा, झिरगा टोली, पत्थरा टोली आदि गांवों में ये भोजन बांटते हैं. हालांकि यह इलाका नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत है. लेकिन क्षेत्र की समस्याएं इतनी हैं कि इन गांवों के लगभग सभी लोग इसी भोजन पर निर्भर हैं.

इसे भी पढ़ें – #LockDown के बाद एक घंटे अधिक चलेंगे स्कूल, सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक होंगे क्लास

कइयों को हो रहा एक ही वक्त का भोजन नसीब

बात करते हुए आर भारती ने बताया कि भले ही क्षेत्र नगर निगम इलाके में आता है. लेकिन कांके डैम के पीछे होने के कारण संसाधनों की पहुंच लोगों तक कम है. दुकानों में राशन की कमी है. इन्होंने बताया की स्थिति ये है की सत्तू बांटते वक्त भी इलाके के सभी लोग घंटों लाइन में खड़े रहते हैं.

हर दिन ये इन गांवों के बीच में सेंटर बनाते हैं. जिससे आसपास के सभी लोग खाना ले सकें. भारती ने बताया कि स्थिति बहुत खराब है. लोगों को देख कर पता चलता चलता है कि भोजन के लिए लोग किस तरह तरस रहे हैं. अब तो डीसी रांची की ओर से मुख्यमंत्री दीदी किचन के जरिये बांटने के लिए खाना मिल रहा है. मोरहाबादी किचन से खाना लाकर दिया जाता है. लेकिन वो भी लोगों के बीच कम पड़़ जा रहा है. कई गर्भवती महिलाएं भी हैं, जिनको खाना पूरा नहीं मिल पाता. जबकि ऐसी महिलाओं को तीन वक्त का खाना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें – दिल्ली में पिज्जा बॉय निकला कोरोना पॉजिटिव, 72 घरों को किया गया सील

हर दिन 400-500 लोगों को करा रहे भोजन

आर भारती ने जानकारी दी की लॉकडाउन के वक्त से ही इनके ग्रुप की ओर से लोगों को खाना खिलाया जा रहा है. पहले दस दिन तो इन्होंने अपने बलबूते लेागों को भोजन कराया, लेकिन अब डीसी की ओर से भी कच्चा राशन मिल रहा या फंडिंग की जा रही है. जिससे मदद मिल रही है.

उन्होंने बताया कि ग्रुप में सभी स्थानीय लोग शामिल हैं. इनमें परवीन उरांव, रमेश गाड़ी, शाहीद अंसारी समेत अन्य लेाग हैं. इन लोगों ने आपसी सहयोग से पहले कुछ दिनों तक लोगों के बीच चूड़ा, फल आदि बांटा. लोगों की जरूरत और समय की मांग को देखते हुए उन्होंने डीसी से सहायता ली.

श्री भारती के अनुसार क्षेत्र में अधिकांश लोग मजदूरी, किसानी करनेवाले हैं. ऐसे में इनको एक वक्त का भोजन ही मिल पा रहा है. आर भारती ग्रुप की ओर से बांटे जा रहे भोजन में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – कोरोना ने देश में पहले से जारी आर्थिक संकट को और गहरा बना दिया है- जमीनी सच्चाई सिर्फ इतनी ही नहीं है

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: