Corona_UpdatesJharkhandRanchi

#Lockdown:  600 से अधिक दाल-भात केंद्र हैं संचालित, अब सीएम कैंटीन योजना से भूखों को खिलायेगी सरकार – हेमंत सोरेन

विज्ञापन
  • सभी मुखिया, वार्ड पार्षद जनप्रतिनिधि एवं अन्य साथियों को जारी संदेश में मुख्यमंत्री ने की लोगों से सहयोग की अपील

Ranchi :  21 दिनों के लॉकडाउन में ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को भूखे रहने की जानकारी मिलने के बाद हेमंत सरकार ने मुख्यमंत्री कैंटीन योजना शुरू करने की घोषणा की है.

सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले ऐसे लोग जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उनलोगों को भोजन नहीं मिल पा रहा है. उन्होंने कहा है कि इस योजना के तहत लोगों को सूखा राशन, चूड़ा, चना, गुड़ दिया जायेगा.

मुख्यमंत्री ने यह बातें  कोरोना के संक्रमण की रोकथाम हेतु डिजिटल माध्यम से झारखंड के सभी मुखिया, वार्ड पार्षद जनप्रतिनिधि एवं अन्य साथियों को जारी संदेश में कहा है.

advt

उन्होंने कहा कि पहले ही राज्य के अंदर सभी स्थानों पर 600 से अधिक दाल-भात केंद्र योजना चल रही है. सभी थानों में निशुल्क भोजन देने का काम हो रहा है. सरकार की स्पष्ट मंशा यही है कि इस महामारी में कोई भूखा न रहे.

सीएम ने कहा कि वर्तमान में पूरा देश और राज्य कोरोना जैसी संक्रमित बीमारी से जुझ रहा है. लेकिन इस महामारी से लोगों को पैनिक होने की जरूरत नहीं है. सरकार हर स्तर पर प्रयासरत है कि इस आपदा की स्थिति में राज्य में रहने वाले या बाहर फंसे लोगों को मदद उपलब्ध करायी जाये.

इसे भी पढ़ें : #LockDown21: उर्दू शिक्षकों का फंसा वेतन, छह माह से कर रहे इंतजार

सामान खरीदने के दौरान निश्चित दूरी बनायें लोग

मुखिया, वार्ड पार्षदों एवं सभी जनप्रतिनिधियों से अपील करते हुए सीएम सोरेन ने कहा कि आज उनकी जिम्मेवारी बनती है कि वे लोगों को जागरूक करें. स्थिति को देखते हुए पहले ही सरकार ने सभी राशन, सब्जी जैसी दुकानों को खुला रखने का निर्देश दिया हुआ है.

adv

उनकी यह जिम्मेवारी है कि वहां आये लोगों को बतायें कि इन स्थानों पर सामान खऱीदने के दौरान वे एक निश्चित दूरी बनायें. सीएम ने कहा कि सरकार ने ग्रामीणों इलाकों में कई कलस्टर खोल दिये हैं.

लेकिन सरकार को जानकारी है कि कई लोग दूसरे राज्य से अपने घऱ आये हैं. जरूरी है कि अगर इनमें से कोई संदिग्ध दिखता है, तो तुरंत जिला प्रशासन को इसकी जानकारी दें.

इसे भी पढ़ें : #Lockdown : शिक्षा मंत्री की अपील, बच्चों से निजी स्कूल प्रबंधन न लें फीस, जल्द जारी करेंगे आदेश

फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए जारी किया गया है हेल्पलाइन नंबर

दूसरे राज्यों में फंसे झारखंड के प्रवासी मजदूरों की चिंता जाहिर करते हुए सीएम सोरेन ने कहा है कि सरकार लगातार उन राज्यों के आला अधिकारियों, मुख्यमंत्री से संपर्क बनाकर रखी है. कंट्रोल रूम इस दिशा में लगातार काम कर रहा है.

एक हेल्पलाइन नंबर 181, 06512490037, 06512490052 पहले ही जारी किया गया है. प्रवासी मजूदरों के लिए फंसे राज्यों के लिए कुछ राशि भी जारी की गयी है.

लॉकडाउन की स्थिति पर लोगों को गंभीर होने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जरूरी है कि इस दशा में लोग कम से कम लोगों से संपर्क बना कर रखें.

वार्ड पार्षदों, मुखिया से अपील करते हुए सीएम ने कहा कि उनकी जिम्मेवारी बनती है कि इस लड़ाई में पूरी एकजुटता के साथ खड़ा रहे. उन्होंने कहा कि पहले ही दो से तीन माह के राशन की अग्रिम देने का निर्णय दिया गया है.

गांव में जिनका राशन कार्ड नहीं है, जिन्हें राशन नहीं मिल रहा है, वैसे लोगों की सूची वे अविलंब डीसी को जानकारी दें. सभी पंचायत भवनों में कलस्टर खोला गया है.

जो लोग राज्य से बाहर से आये हैं, उनके लिए यहां हर तरह की सुविधा की व्य़वस्था की गयी है. संदिग्ध या किसी तरह की बीमारी होने पर लोगों से अपील है कि वे हॉस्पिटल जायें. सरकार उन्हें अपने संरक्षण में इलाज करायेगी.

इसे भी पढ़ें : पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाकर नक्सली ग्रामीणों की कर रहे पिटाई, ले रहे जान

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button